यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

उन्नाव में एक बार फिर जगन अपराध, चचेरे भाई ने 7 वर्षीय मासूम को उतारा मौत के घाट


🗒 शनिवार, मई 15 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
उन्नाव में एक बार फिर जगन अपराध, चचेरे भाई ने 7 वर्षीय मासूम को उतारा मौत के घाट

उन्नाव,  ऐसा जमाना है कि इंसान धन, दौलत हड़पने के लिए किसी भी हद तक चला जाता है। उसके लिए खून के रिश्ते भी मायने नहीं रखते हैं। जी हाँ ताजा मामला उन्नाव की पुरवा कोतवाली क्षेत्र के सलेथू गाँव में देखने को मिला जहाँ चचेरे भाई ने अपने 7 वर्षीय मासूम भाई को संदिग्ध हालातों में ईंटों आदि से कुचल- कुचलकर मौत के घाट उतार दिया है। फिलहाल अपर पुलिस अधीक्षक शशि शेखर सिंह के नेतृत्व में पुरवा सीओ रघुवीर सिंह एवं कोतवाल अजय कुमार त्रिपाठी व उनकी टीम ने कड़ी मसक्कत के बदौलत कुछ ही घण्टो में मामले को अंजाम तक पहुंचाया है जिसमें स्वाट टीम, डॉग स्क्वायड टीम व फॉरेंसिक टीम का भी अहम योगदान रहा है जो कि काबिले तारीफ़ है।वहीं घटना को गति देने के लिए उन्नाव अपर पुलिस अधीक्षक शशि शेखर सिंह ने पुरवा कोतवाली में कुछ ही घंटों में घटना का अनावरण तो कर दिया है लेकिन हत्या का मुख्य कारण दो पहलुओं में उलझा हुआ है।प्रथम दृष्टया एडिशनल के द्वारा खुलासे में बताया गया कि मासूम बच्चे के साथ कुकर्म करने के प्रयास से असफल होकर उसके चचेरे भाई ने ईंटों से कुचल- कुचल कर हत्या कर दी है तो वहीं दूसरे दृष्टिकोण में बताया कि आपसी रंजिश को लेकर हत्या की गई है। फिलहाल हत्यारोपी को पुरवा पुलिस ने सलाखों के पीछे कैद कर रखा है और मामले की विवेचना अभी जारी है। अब यह देखना होगा कि 7 वर्षीय मासूम बच्चे की हत्या के पीछे सिर्फ उसका चचेरा भाई है या अभी और कोई दूसरा भी शामिल था