यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

उन्नाव में बयान दर्ज कराने पहुंचे पूर्व आइएएस सूर्यप्रताप


🗒 मंगलवार, जून 08 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
उन्नाव में बयान दर्ज कराने पहुंचे पूर्व आइएएस सूर्यप्रताप

उन्नाव,  कोरोना काल के दौरान बरेली में रामगंगा में बहते शवों पर किए ट्वीट में उन्नाव की पुरानी फोटो लगाकर भ्रम फैलाने के मुकदमे में बयान दर्ज कराने को पूर्व आइएएस सूर्य प्रताप सिंह उन्नाव आए। सदर कोतवाली में बीती 15 मई को दर्ज हुए आइटी एक्ट के इस मुकदमे में उन्होंने मंगलवार को सोहरामऊ थाने में बयान दर्ज कराए। बीती पांच जून को जांच अधिकारी रणजीत यादव ने उनके आवास आकर उन्नाव में बयान दर्ज कराने को कहा था। जांच अधिकारी ने बंद कमरे में उनके बयान लिए। इस दौरान सोहरामऊ थाना प्रभारी सुरेश पटेल बाहर खड़े रहे। सूर्यप्रताप का कहना है कि इस मामले में हाईकोर्ट से स्टे मिला है, फिर भी बयान लिए गए। स्टे के बाद भी पुलिस बयान कैसे ले सकती है। इसकी जानकारी अदालत को देंगे। उन्होंने कहा कि सरकार की कमियां उजागर करने पर एक साल में उनके खिलाफ छह जिलों में छह मुकदमे दर्ज कराए गए लेकिन वह समस्याएं उठाते रहेंगे। अब डर लगता है कि कहीं मेरी गाड़ी न पलट जाए। रिटायर्ड आइएएस सूर्यप्रताप शाही ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट किया था। इसमें उन्होंने लिखा था कि 67 शव को योगी सरकार ने गंगा तट पर जेसीबी गड्ढा खोदकर दफना दिया है। शव का अंतिम संस्कार हिंदू वैदिक रीति रिवाज से ना करना, हिंदुओं के लिए कलंक जैसा है। यूपी का यह योगी मॉडल- जीवित का इलाज नहीं, मृतक का अंतिम संस्कार नहीं, HC ने सही लानत भेजी"। कोतवाली प्रभारी ने बताया था कि सोशल मीडिया सेल से मिली जानकारी के अनुसार रिटायर्ड आइएएस ने जिस फोटोग्राफ को अपने ट्वीट में प्रयोग किया है। वह 13 जनवरी 2014 का है। ट्वीट के बाद रिट्वीट, लाइक्स और कमेंट्स के कारण जिले में तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई थी। बयान दर्ज कराने से पहले सूर्यप्रताप ने ट्वीट किया कि पहले कोतवाली, फिर पुलिस लाइन, फिर उन्नाव बॉर्डर स्थित ओवरब्रिज के नीचे और अब सोहरामऊ थाने में बुलाया गया है। अब इसके पीछे पुलिस की न जाने क्या मंशा है। फिलहाल मैं जा रहा हूं। 

उन्नाव से अन्य समाचार व लेख

» उन्नाव में बेरहमी से दो महिलाओं को उतारा मौत के घाट

» उन्नाव में पत्रकारों से अभद्रता और मारपीट में पांच को जेल

» कवरेज कर रहे पत्रकार को सीडीओ व भाजपा नेता ने मिलकर पीटा

» सीओ से छिना चार्ज, एएसपी को सौंपी गई जांच

» उन्नाव में किशोरी से सामूहिक दुष्कर्म के पांच आरोपित भेजे गए जेल