यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

उन्नाव में चुनावी रंजिश बनी बुजुर्ग की निर्मम हत्या ,दारोगा-सिपाही निलंबित


🗒 शुक्रवार, जून 18 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
उन्नाव में चुनावी रंजिश बनी बुजुर्ग की निर्मम हत्या ,दारोगा-सिपाही निलंबित

उन्नाव, क्षेत्र के एक गांव में शुक्रवार को बुजुर्ग की लाठी-डंडों से पीटने के बाद कुल्हाड़ी से काटकर हत्या कर दी गई। हमलावरों से पिता को बचाने आए दो बेटे घायल हो गए। गुरुवार को भी आरोपितों ने हमला बोला था, लेकिन तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज करने के बावजूद पुलिस ने अनदेखी की, जिससे इतनी बड़ी घटना हो गई। घटना के पीछे चुनावी रंजिश और नाली को लेकर हुआ विवाद सामने आया है। उधर, प्रथम दृष्टया पुलिस की लापरवाही मानते हुए एसपी आनंद कुलकर्णी ने दारोगा और सिपाही को निलंबित कर दिया है। अचलगंज थानांतर्गत मोहद्दीनपुर गांव निवासी अमृत प्रसाद द्विवेदी की अपने भतीजे सूर्य कुमार द्विवेदी और  पड़ोसियों से चुनावी रंजिश थी। गुरुवार रात इसी को लेकर घर के पास स्थित गोंड़ा में अमृत प्रसाद व उनके बेटे दीपक का विपक्षियों से विवाद हो गया। इसमें हमलावरों ने दोनों को लाठी-डंडों से पीट दिया। पीडि़त पक्ष की सूचना पर यूपी-112 पुलिस टीम पहुंची और दीपक व अमृत प्रसाद को थाने ले आई। पुलिस ने दीपक की तहरीर पर उसके चचेरे भाई सूर्य कुमार, पड़ोसी कमल किशोर, लवकुश, गुलाब, दीपू व राजेश के खिलाफ रिपोर्ट भी दर्ज की थी। सूत्रों के मुताबिक, आरोपित थाने भी पहुंचे पर पुलिस ने उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। इससे उनके हौसले बढ़ गए। शुक्रवार सुबह अमृत प्रसाद जैसे ही गोंड़ा में गोबर डालने पहुंचे तो कमल किशोर समेत अन्य सभी ने लाठी-डंडों व कुल्हाड़ी से उन पर हमला बोल दिया। बीच बचाव करने पहुंचे बेटों दीपक और हरी पर भी हमलावरों ने ताबड़तोड़ वार किए, जिसमें वह भी घायल हो गए। पिता के साथ बेटों को गंभीर हालत में जिला अस्पताल भेज गया, जहां इलाज के दौरान अमृत प्रसाद की मौत हो गई।ग्रामीणों के मुताबिक, गुरुवार रात पुलिस आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई कर देती तो इतनी बड़ी घटना नहीं होती। मृतक के बेटे दीपक की तहरीर पर पुलिस ने सूर्य कुमार, दीपू, राजेश, गुलाब, लवकुश व कमल किशोर के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज की है। उधर, एसपी ने पूरे घटनाक्रम में पुलिस की लापरवाही मानते हुए एसआइ पवन कुमार पाठक और हेड कांस्टेबल देवकुमार पांडेय को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर विभागीय जांच के निर्देश दिए हैं। उन्होंने बताया कि आरोपितों को जल्द गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा।

उन्नाव से अन्य समाचार व लेख

» उन्नाव में पत्रकारों से अभद्रता और मारपीट में पांच को जेल

» कवरेज कर रहे पत्रकार को सीडीओ व भाजपा नेता ने मिलकर पीटा

» सीओ से छिना चार्ज, एएसपी को सौंपी गई जांच

» उन्नाव में किशोरी से सामूहिक दुष्कर्म के पांच आरोपित भेजे गए जेल

» उन्नाव में बीडीसी सदस्य के पति का किया अपहरण, एक गिरफ्तार