यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बैंक के फाइनेंस कर्मी की हत्या के बाद ड्रम में छिपाया था शव


🗒 शनिवार, सितंबर 11 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
बैंक के फाइनेंस कर्मी की हत्या के बाद ड्रम में छिपाया था शव

उन्नाव, । दही थानांतर्गत सराय कटियान के पास कानपुर की एक बैंक में फाइनेंस का काम देखने वाले युवक की हत्या के बाद शव ड्रम में छिपाकर नहर में फेंक दिया गया था। वह सात सितंबर को बैंक से कानपुर के मालरोड स्थित डाक्टर से दवा लेने की बात कह निकला था और फिर लापता हो गया था। उसके पास मिली स्कूटी की चाबी के गुच्छे से हो सकी।शुक्रवार सुबह दही थानाक्षेत्र में गांव सराय कटियान के पास नहर में ड्रम के अंदर छिपाकर फेंका गया शव पुलिस ने बरामद किया था। पुलिस शव की पहचान का प्रयास कर रही थी। उसके पास मिले स्कूटी के चाबी के गुच्छे की मदद से पुलिस घरवालों तक पहुंच सकी। स्कूटी में उसने माता-पिता की फोटो लगा रखी थी। शव की पहचान संजय नगर कालोनी, मछरिया रोड नौबस्ता कानपुर निवासी 26 वर्षीय विशाल के रूप में हुई। स्वजन ने बताया कि विशाल कानपुर की एक निजी बैंक में फाइनेंस का काम देखता था। वह सात सितंबर की शाम को माल रोड स्थित डाक्टर से दवा लेने की बात कहकर स्कूटी से निकला था। देर रात तक घर नहीं आया तो तलाश शुरू की। डाक्टर से पता चला कि वह दवा लेकर रात साढ़े 10 बजे घर चला गया था। इसपर नौबस्ता थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई थी। सूचना के बाद दही थाना आए और उसके पास से मिली स्कूटी की चाबी देखी तो गुच्छे में लगी पिता विष्णु प्रसाद और मां सुमन की फोटो पहचानते देर नहीं लगी। पोस्टमार्टम हाउस में शव देखने के बाद पिता ने बेटे के रूप में शिनाख्त कर ली।बहनोई अतिन गर्ग ने बताया कि विशाल की किसी से रंजिश नहीं थी और उसका काम भी कानपुर के अंदर का ही था। वह फाइनेंस संबंधित अभिलेखों का सत्यापन देखता था और वह काफी सीधा था। उसकी अभी शादी नहीं हुई थी। बेटे की हत्या की जानकारी के बाद पिता विष्णु प्रसाद, मां सुमन, बड़े भाई अंशुल बहन स्वाति व बहनोई अतिन गर्ग का रो-रोकर बुरा हाल रहा। एसओ दही गौरव कुमार ने बताया घटना कि रिपोर्ट नौबस्ता थाने में दर्ज है, यहां शव लाकर फेंका गया है। इसलिए आगे की कार्रवाई नौबस्ता पुलिस ही करेगी।