प्रियंका गांधी ने कहा 56 इंच के सीने वाले ने नहीं पूरे किए वादे

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

प्रियंका गांधी ने कहा 56 इंच के सीने वाले ने नहीं पूरे किए वादे


🗒 सोमवार, मार्च 18 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

अपने पुरखों की धरती प्रयागराज से स्टीमर के काफिला के साथ वाराणसी की गंगा यात्रा पर निकलीं प्रियंका गांधी वाड्रा ने सफर के दूसरे पड़ाव सिरसा घाट पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को समर्थन देने की अपील की। कांग्रेस महासचिव तथा पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी ने सिरसा घाट पर अपनी क्रूज बोट को छोड़ा और गेस्ट हाउस में लोगों को संबोधित किया। यहां से वह लाक्षागृह और अब भदोही जिले के सीतामढ़ी पहुंच चुकी हैं।जल मार्ग से पूर्वी उत्तर प्रदेश के रण में उतरीं कांग्रेस की स्टार प्रचारक प्रियंका गांधी प्रयागराज के तूफानी दौरे के बाद सोमवार शाम पौराणिक स्थल सीतामढ़ी पहुंचीं। गंगा किनारे आयोजित मछुआरों व महिलाओं से संवाद में बगैर प्रधानमंत्री का नाम लिए उन्होंने तंज कसा। बोलीं, खुद को शक्तिमान और 56 इंच के सीने वाले इतने महान नेता आप हैं तो सभी वादे पूरे क्यों नहीं किए। सच ये है कि मौजूदा सरकार दुर्बल है। सीना तानकर सिर्फ बातें करने से देश नहीं चलता है। लोकतंत्र में जनता को उसकी शक्ति का भान रखने की अपील करते हुए प्रियंका ने कहा कि राहुल को सत्ता का शौक नहीं है, वे आपकी और देश की भलाई चाहते हैं। 

 प्रियंका गांधी ने कहा 56 इंच के सीने वाले ने नहीं पूरे किए वादे

कांग्रेस की महासचिव प्रियंका ने जनता को खुद से जोड़ने के लिए अतीत का भी सहारा लिया। बोलीं, मैंने और मेरे भाई ने बहुत संघर्ष देखा है। पिता का बलिदान दिया है, परिवार का बहुत कुछ बलिदान हुआ है। ये चुनाव दरअसल आप सभी के लिए चुनौती है। मौजूदा सरकार संविधान और संस्थाओं को बिगाड़ना चाहती है। फूट डालकर राज करना चाहती है। आपको सतर्क रहना होगा। झूठे वादे करने वाली सरकार को पहचानें। भाजपा को समझाएं कि झूठे वादे करने से काम नहीं चलेगा। प्रियंका ने कांग्रेस की सरकार वाले  राज्यों राजस्थान और मध्य प्रदेश का हवाला देते हुए कहा कि वहां दस दिनों के भीतर राहुलजी का किसानों से किया वादा पूरा हुआ। सबल सरकार की राजनीतिक इच्छाशक्ति प्रबल होती है, वे जनता को दबाती नहीं है। केंद्र की मौजूदा सरकार लगातार जनता को नकार रही है। किसी भी बात के लिए पूर्व की कांग्रेस सरकार को कोसते हैं, अरे भाई पिछले पांच साल से तो सत्ता में आप हैं। पिछले पांच साल में आपने चुनाव में किए कितने वादे पूरे किए। किसानों का उत्थान नहीं हुआ, महिलाओं का सम्मान नहीं हुआ और युवाओं को रोजगार नहीं मिला। प्रियंका ने जनता से पूछा कि क्या आपके खाते में 15 लाख रुपये आए, जवाब मिला नहीं-नहीं। प्रियंका के भाषण के दौरान भीड़ की तरफ से बार-बार चौकीदार संबोधन के साथ नारेबाजी होती रही। उन्हें कई बार रोकना पड़ा। बोलीं, नारेबाजी बंद करिए, बोलने दीजिए। संवाद के बाद प्रियंका ने सीतामढ़ी गेस्ट हाऊस में पार्टी कार्यकर्ताओं  से मुलाकात व चुनावी विमर्श किया।प्रयागराज से आते वक्त सीतामढ़ी से कुछ ही पहले कोइरौना बाजार में किसानों ने प्रियंका गांधी का स्‍वागत करने के लिए काफिला रोक दिया। भीड़ देख प्रियंका गाड़ी से उतरीं। वहां मौजूद बुजुर्गवार किसान कृष्‍णानंद मिश्र व वंशनारायण से बोलीं कि राहुल भइया को हाथ मजबूत करिए दादा।इससे पहले प्रियंका गांधी ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय की कुछ छात्राओं के साथ एक तस्वीट ट्वीट की, जिसमें उन्होंने लिखा कि आज सुबह इलाहाबाद विश्वविद्यालय की इन बुद्धिमान, गतिशील और युवा छात्राओं के साथ इस यात्रा को साझा करना मुझे बहुत अच्छा लगा। मैं आज कई प्रतिभाशाली छात्रों से मिली, वे एक ऐसे भविष्य के लायक हैं जिसमें उनकी आशाओं और सपनों को साकार किया जा सके।

सिरसा के बाद क्रूज बोट से लाक्षागृह पहुंचीं प्रियंका गांधी ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा सिर्फ बातें करती है, काम नहीं करती। देश बातों से नहीं काम से चलता है। यह सरकार विज्ञापन दिखा रही है। देश के विकास के लिए राहुल गांधी के हाथों को मजबूत कीजिये। यहां सभा को संबोधित करने के वह सीतामढ़ी के रवाना हो गई हैं।प्रियंका गांधी ने कहा कि 45 सालों में इतने कम रोजगार नहीं हुए जितने बीते 5 सालों में हुए। उन्होंने कहा कि देश इस समय संकट में है, इसलिए मुझे घर से बाहर निकलना पड़ा। लोगों से मतदान की अपील करते हुए प्रियंका गांधी ने कहा- वोट देकर देश को और अपने आप को मजबूत बनाएं। पीएम मोदी के चौकीदार कैंपेन पर निशाना साधते हुए प्रियंका गांधी ने कहा कि उनकी (पीएम मोदी) की मर्जी अपने नाम के आगे क्या लगाएं। मुझे तो एक किसान ने कहा कि चौकीदार अमीरों के होते हैं, हम किसान तो अपने खुद चौकीदार होते हैं।सिरसा घाट क्षेत्र में प्रियंका गांधी बोट से उतरकर बाजार में शिवगंगा वाटिका गेस्टहाउस पहुंची। यहां नुक्कड़ सभा को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि देश संकट में है। देश चार पांच लोगों के हाथ मे गिरवी है। इस चुनाव में आप अपने और बच्चों के भविष्य के लिए चुनाव कीजिये। कांग्रेस की सरकार को याद कीजिये। कांग्रेस को वोट कीजिये। राहुल गांधी के हाथ को मजबूत कीजिये।सिरसा में गंगा घाट पर पहुंचने के बाद 250 मीटर दूर गेस्ट हाउस तक उनके जाने के लिए प्रशासन की तरफ से एंबेसडर कार की व्यवस्था की गई थी। प्रियंका गांधी घाट से गेस्ट हाउस के लिए पैदल ही निकल पड़ी। तेज धूप, धूल और भीड़ के बीच लोगों का अभिवादन करते हुए वह अपने गेस्ट हाउस पहुंची।सिरसा बाजार में जनसंपर्क करने के लिए सुरक्षा व्यवस्था की परवाह न करते हुए प्रियंका गांधी पैदल निकल पड़ीं। एसपीजी की तरफ से फार्च्यूनर गाड़ी की व्यवस्था की गई थी। सिरसा बाजार में पैदल भ्रमण के बाद लौटते समय गंगा घाट पर मीडिया से बातचीत में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा चौकीदार अमीरों का होता है, गरीबों का नहीं।प्रियंका गांधी के साथ सैकड़ों की भीड़ उनके पीछे चल पड़ी है। घरों के सामने खड़ी महिलाओ व लड़कियों को गले लगाते हुए उनसे बात किया। कई बुजुर्ग लोगो से भी हाथ मिलाया।

प्रयागराज के दुमदुमा घाट पर पार्टी नेताओ व कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया। स्टीमर से उतरकर गांव वालों से मिलीं। प्रियंका गांधी ने नुक्कड़ सभा भी की। उन्होंने सभा को सम्बोधित किया। कहा कि सरकार बदलने के लिए चुनाव हो रहा है। आपका भविष्य बदलने  के लिये चुनाव हो रहा है। राहुल गांधी के हाथ को मजबूत कीजिये।इस दौरान उन्होंने नरेंद्र मोदी सरकार पर आरोप भी जड़े और लोगों से पीएम मोदी की तर्ज पर पूछा कि आपके पास रोजगार है क्या। प्रियंका गांधी मनैया घाट से दुमदुमा घाट पहुंची। वह स्थानीय नेताओं से मिली हैं। यहां उन्होंने लोगों को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने पीएम मोदी और भाजपा पर काफी देर तक हमला बोला। प्रियंका गांधी ने यहां पर लोगों से पूछा कि आपके पास रोजगार है क्या? नौजवान और किसान परेशान हैं। बेमतलब के मुद्दों में उलझाया जा रहा है। जनता के लिए राजनीति होनी चाहिए। जनता की आवाज सुनी जानी चाहिए। आवाज उठाने वालों को डराया जाता है। प्रियंका गांधी ने कहा कि 45 वर्ष में सबसे कम रोजगार मिला। छह महीने से मनरेगा का पैसा नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि किसानों को फसल का बाजिब दाम मिलना चाहिए। युवाओं को रोजगार चाहिए। महिलाओं को सुरक्षा चाहिए। यह सभी बड़े चुनावी मुद्दे हैं, लेकिन इन मुद्दों से भटकाया जा रहा है।प्रियंका ने कहा कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार आई तो 10 दिनों में किसानों के कर्ज माफ कर दिए गए। राजस्थान में भी कांग्रेस की सरकार आते ही किसानों को राहत दी गई। उनका कर्ज माफ किया गया। उन्होंने अपील की है कि सोच समझकर उम्मीदवार चुने।

उत्तर प्रदेश से अन्य समाचार व लेख

» सम्भल में सिपाहियों की हत्या की जांच आइजी एसटीएफ अमिताभ यश ने टीम के साथ शुरू

» जिला सम्भल में दो सिपाहियों की हत्या कर पुलिस वैन से फरार हुए 3 बंदी

» कलयुगी मामा ने रिश्‍ता किया शर्मसार, गर्भवती भांजी का कर दिया सौदा

» सांसद नीरज शेखर ने राज्‍यसभा और सपा से दिया इस्‍तीफा

» सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या ढांचा विध्‍वंस मामले में जज के रिटायरमेंट पर यूपी सरकार से मांगा जवाब

 

नवीन समाचार व लेख

» शिवभक्तो की सुरक्षा के मद्देनजर डीएम एसपी लिया जायजा

» अस्थमा की विमारी से ग्रसित बुजुर्ग संग दरोगा द्वारा मारने पीटने व पैर छुआने के मामले में पीड़ित की शिकायत पर मुकदमा दर्ज

» एनसीसी कैंप का आयोजन ,देश भर के छात्र-छात्राए कर रहे हैं प्रतिभाग

» प्रसूता की मौत के बाद सील हुआ हॉस्पिटल

» ब्रज यातायात एवं पर्यावरण जन जागरूकता समिति उत्तर प्रदेश व नारी शक्ति की उड़ान महिला संगठन निकालेंगे यातायात नियमों के प्रति जागरूकता रैली