यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

केस्कौ की लापरवाही दिन भी जला करती है स्ट्रिंरीट लाईटे


🗒 रविवार, जून 02 2019
🖋 चित्रभान केशव अग्निहोत्री, ब्यूरो प्रमुख कानपुर

केस्को विभाग की घोर लापरवाही दिन में भी जलती स्ट्रीट लाइटें केस्को विभाग का स्लोगन ''राष्ट्रहित में बिजली बचाएं'' को लग रहा है पलीता अधिकारी नहीं दे रहे ध्यान कानपुर के नौबस्ता आवास विकास हंसपुरम 2c 377 वार्ड 41 के क्षेत्रीय निवासियों का कहना है यहां पर सारा दिन स्ट्रीट लाइट जलती रहती है! जिस के संबंध में अधिकारियों को पहले भी सूचित किया जा चुका है! पर अधिकारियों की लचर व्यवस्था अपनाते हुए नहीं दिया जाता ध्यान! एक तरफ केंद्र और राज्य सरकार बिजली के बचत के लिए नए-नए तरीके अपना रही है वही दूसरी तरफ कानपुर नगर में बिजली बर्बाद करने पर तुली हुई है! आपको बिजली के बिलों में स्लोगन लिखे मिल जाएंगे कि राष्ट्र हित में बिजली बचाएं, मगर इसका अनुपालन शायद ही कहीं हो रहा हो! दरअसल, कानपुर नगर क्षेत्र में खंभों पर स्ट्रीट सोडियम लाइट लगाए हुए हैं! हद तो यह है कि स्ट्रीट लाइटें भी दिनभर जगमग करती रहती हैं! और यही हाल आपको पूरे कानपुर शहर में कहीं ना कहीं देखने को मिल जाएंगे!

केस्कौ की लापरवाही दिन भी जला करती है स्ट्रिंरीट लाईटे

दिन के समय ऊर्जा की बर्बादी जबकि नगर की सड़कों व गलियों में सुबह से लेकर रात तक स्ट्रीट लाइट का जलना आम है। केस्को विभाग की घोर लापरवाही और गैर जिम्मेदाराना रवैया के कारण नगर क्षेत्र के लगभग 25 से 30% सोडियम लाइट पूरे दिन जलती रहती है। जिसके कारण ऊर्जा की तो बर्बादी हो ही रही है ,और खुलेआम उच्च अधिकारियों के आदेश की भी धज्जियां उड़ाई जा रही हैं! वही ऊर्जा मंत्री जी का सख्त निर्देश है कि अगर रोड लाइटें दिन में जलती मिली तो जिम्मेदारों के खिलाफ सख्त कदम उठाए जाएंगे इन हालात में बिजली बिल पर अंकित ‘राष्ट्र हित में बिजली बचाओ’ स्लोगन की खिल्ली ही उड़ रही है! कुल मिलाकर ऊर्जा निगम इस स्लोगन को सार्थक बनाने में नाकाम दिख रहा है। जबकि विद्युत विभाग प्रशासन इस मुहिम से मुंह फेरे हुए है। कानपुर - जंहा एक ओर शहर से लेकर गावों तक बिजली कटौती को लेकर जनता गर्मी मे परेशान है वही केस्कौ कर्मचारी घोर लापरवाही कर रहे है । यह हाल नगर का ही नही बल्कि कस्बों व देहात क्षेत्र का भी है।नगर व कस्बों की स्ट्रीट लाइट को बंद करने व चालू करने का जिम्मा कर्मचारियों का है जिसके लिए कर्मचारी भी तैनात हैं। बावजूद इसके बिजली की बर्बादी थम नहीं रही है।_

कानपुर से अन्य समाचार व लेख

» जिला कानपुर में किडनी के अवैध ट्रांसप्लांट मामले में पुलिस हिरासत में दिल्ली के बड़े अस्पताल के CEO

» विजिलेंस करेगा भर्ती घोटाले में निलंबित यूपीएसआइसी के चार अफसरों की जांच

» बस की टक्कर से एक छात्र की मौत दूसरा गंभीर

» शहर मे बडे़ पैमाने पर चल रहा नकली सीमेंट का कारोबार पकड़ा गया

» पुलिस ने अपराधी को मुठभेड़ के दौरान शातिर अपराधी मंगल को किया गिरफ्तार

 

नवीन समाचार व लेख

» मथुरा की छाता, मांट, शेरगढ और कोसीकला क्षेत्र में पुलिस की बडी कार्यवाही शराब मफिया को दिया 2 करोड 28 लाख का फटका

» मथुरा वृन्दावन व्रजमण्डल की लोकेशन बम्बई के निर्देशकों को लुभा रहीं

» मथुरा के गोविंदनगर मेंबेखौफ बदमाश महिला के गले से चेन तोड़कर भागे

» मथुरा वाले फ़िल्म प्रोडक्शन द्वारा बनाई गई लघु फ़िल्म बचो बेटियो को मिला 2019 का बेस्ट शार्ट फ़िल्म का अवार्ड

» मथुरा। राहुल गांधी पर ऊर्जा मंत्री का जमकर हमला