यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

UP में ध्वस्त कानून व्यवस्था के खिलाफ सपा सड़कों पर, कई जिलों में पुलिस से टकराव


🗒 शुक्रवार, अगस्त 09 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

लोकसभा चुनाव के बाद शुक्रवार को पहली बार समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता सड़कों पर नजर आए। लाल टोपियां लगाए सपाइयों से कई स्थानों पर पुलिस का टकराव हुआ और विरोध में गिरफ्तारियां भी दी गई। उत्तर प्रदेश की ध्वस्त कानून व्यवस्था सहित जनसमस्याओं के 25 मसलों को लेकर जिला मुख्यालयों पर धरना प्रदर्शन किए गए। राज्यपाल के नाम संबोधित ज्ञापन भी सौंपा।राष्ट्रीय सचिव व मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने दावा किया कि इस प्रदर्शन में प्रदेश में लगभग 12 लाख कार्यकर्ताओं ने भागीदारी की, जिससे प्रशासन नींद उड़ गई और कई स्थानों पर बौखलाई पुलिस ने शांतिपूर्ण प्रदर्शन करते लोगों पर बल प्रयोग भी किया। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस प्रशासन का रवैया पूरी तरह अलोकतांत्रिक व दमनात्मक रहा।चौधरी ने बताया कि इटावा में प्रमुख राष्ट्रीय महासचिव रामगोपाल यादव, बलिया में नेता विरोधी दल रामगोविंद चौधरी, फतेहपुर में प्रदेशाध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल, संभल में शफीकुर्रहमान बर्क, मुरादाबाद में एसटी हसन, रामपुर में अब्दुल्ला आजम, झांसी में चंद्रपाल, लखनऊ में इंद्रजीत सरोज, आगरा में रामजी लाल सुमन, आजमगढ़ में बलराम यादव व बाराबंकी में अरविंद सिंह गोप ने प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व किया। चौधरी ने आरोप लगाया कि प्रशासन की बौखलाहट से सरकार की खामियां सिद्ध होती है। उन्होंने कहा कि जनता की समस्याओं को लेकर समाजवादियों का संघर्ष जारी रहेगा।अर्से बाद सड़कों पर समाजवादी कार्यकर्ताओं की भीड़ दिखी, लेकिन राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की गैरहाजिरी चर्चा का केंद्र बनी रही। वहीं रामपुर में प्रदर्शन का नेतृत्व सांसद आजम खां द्वारा न किए जाने को लेकर तमाम चर्चाएं हैं। अखिलेश का संघर्ष के लिए सड़कों पर नहीं आना पार्टी में एक खेमे को अखर रहा है। एक पूर्व मंत्री का कहना है कि पार्टी को बचाने के लिए यह समय नेताजी की तरह से जमीनी संघर्ष करने और कार्यकर्ताओं को उत्साहित रखने का है।

UP में ध्वस्त कानून व्यवस्था के खिलाफ सपा सड़कों पर, कई जिलों में पुलिस से टकराव

उत्तर प्रदेश से अन्य समाचार व लेख

» श्रावस्ती मे महिला को फावड़े और तलवार से काटकर मौत

» UP में पटरी पर लौटने लगा जनजीवन, प्रदेश में हालात अब सामान्य

» हिंसा के दाग कहीं पलट न दे विपक्ष का दांव, सरकार को दिया पलटवार का मौका

» UP मे नागरिकता संशोधन कानून पर हिंसा को लेकर अब राजनीतिक दलों में घमासान

» नागरिकता संशोधन कानून का विरोध बेहद हिंसक, लखनऊ व सम्भल में माहौल खराब

 

नवीन समाचार व लेख

» 42 लेखपाल निलंबित उसके बाद भी प्रदर्शन जारी

» भीषण ठंड के बाद भी स्कूल खुला जब ठंड का है डबल अटैक

» डॉन कैमरे से पुलिस ने चप्पे-चप्पे पर नजर रखी

» शांति अमन चैन और सौहार्द की मिसाल बना बांदा शहर मुस्लिम युवकों ने पुलिस को भेंट किए फूल

» बालू माफिया सब्जी वालों की बारी कर रहे हैं बर्बाद भूखों मरने की कगार पर