यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

केंद्र व दिल्ली सरकार की मिलीभगत से गिराया गया संत रविदास मंदिर; मायावती


🗒 बुधवार, अगस्त 14 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

दिल्ली के तुगलकाबाद में दिल्ली विकास प्राधिकरण द्वारा संत रविदास मंदिर ढहाने के बाद गर्म हुई राजनीति में बसपा प्रमुख मायावती भी कूद पड़ी हैं। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि दिल्ली के तुगलकाबाद क्षेत्र में बना संत रविदास मंदिर केंद्र और दिल्ली सरकार की मिलीभगत से गिरवाये जाने का बीएसपी ने सख्त विरोध किया है।बसपा प्रमुख मायावती ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि इससे इनकी आज भी हमारे संतों के प्रति हीन व जातिवादी मानसिकता साफ झलकती है। बसपा प्रमुख मायावती ने बुधवार को ट्वीट कर कहा कि बीएसपी की मांग है कि इस मामले में ये दोनों सरकारें कोई बीच का रास्ता निकाल कर अब अपने खर्चे से ही इनके मंदिर का पुनः निर्माण करवाएं।दिल्ली के तुगलकाबाद में शनिवार को दिल्ली विकास प्राधिकरण यानी डीडीए ने संत रविदास मंदिर ढहा दिया, जिसको लेकर दिल्ली से लेकर पंजाब तक अब राजनीति गर्मा गई है। इस पर डीडीए की सफाई आई, जिसमें कहा गया है कि गुरु रविदास जयंती समारोह समिति ने जंगल की जमीन पर निर्माण किया था। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद भी जगह को खाली नहीं किया गया। इसलिए 9 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने डीडीए को आदेश दिया कि वह पुलिस की मदद से इस जगह को खाली कराए और ढांचे को हटाए।

केंद्र व दिल्ली सरकार की मिलीभगत से गिराया गया संत रविदास मंदिर; मायावती

उत्तर प्रदेश से अन्य समाचार व लेख

» नोएडा अथॉरिटी के पूर्व चीफ इंजीनियर यादव सिंह को CBI ने फिर से किया गिरफ्तार

» राम मंदिर निर्माण के लिए बना ट्रस्ट, नौ स्थायी, एक दलित समेत सभी 15 सदस्यों का हिंदू होना अनिवार्य

» गुरु जीवन का पथ प्रदर्शक होता है- रामानन्द सैनी

» UP में PFI के 108 सदस्य गिरफ्तार, 19 व 20 दिसंबर को CAA के विरोध की हिंसा में हाथ

» उत्तर प्रदेश में हिंसा फैलाने के आरोप में बहराइच, हापुड़ और शामली से चार PFI सदस्य गिरफ्तार