यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

गैंगस्टर एक्ट के तहत करीब 1 करोड़ की संपत्ति हुई जप्त


🗒 बुधवार, जुलाई 08 2020
🖋 शिवम कश्यप, जिला संवाददाता लखीमपुर खीरी

लखीमपुर (खीरी) पुलिस अधीक्षक खीरी के निर्देशन में सम्पूर्ण जनपद में शातिर हिस्ट्रीशीटर अपराधियों, गैंगस्टर्स एवं माफियाओं के विरुद्ध अभियान चलाया जा रहा है। जिसके क्रम स्वयं पुलिस अधीक्षक खीरी पूनम के नेतृत्व में थाना मैलानी क्षेत्र निवासी शातिर शराब माफिया,हिस्ट्रीशीटर व गैंगस्टर वेद प्रकाश उर्फ वेदू, जिसके विरुद्ध पूर्व से लूट, डकैती, गैंगेस्टर, हत्या का प्रयास आदि जघन्य अपराधों के करीब 36 मुकदमें पंजीकृत हैं तथा गैंगस्टर एक्ट के तहत करीब 1 करोड़ की संपत्ति जब्तीकरन की कार्यवाही प्रचलित है, के घर पुलिस द्वारा दबिश देकर अवैध शराब के निर्माण में प्रयुक्त किये जाने वाले पक्के निर्माण को नष्ट कराया गया तथा मोटरसाइकिल, ट्रैक्टर, जनरेटर आदि जब्त किये गये। साथ ही उसके इस कारोबार में सहयोग करने वाले उसके दामाद रोहित सिंह पुत्र सुनील सिंह तथा पुत्र व अर्जुन पुत्र वेद प्रकाश उर्फ वेदु को गिरफ्तार किया गया है। जिनके कब्जे से भारी मात्रा में अवैध शराब व शराब बनाने के उपकरण बरामद किये गये तथा भारी मात्रा में लहन मौके पर नष्ट किया गया।

गैंगस्टर एक्ट के तहत करीब 1 करोड़ की संपत्ति हुई जप्त

लखीमपुर खीरी से अन्य समाचार व लेख

» गैंगस्टर एक्ट के तहत करीब एक करोड़ की संपत्ति हुई जब्त

» कहीं नेपाल ना भाग जाए 'विकास दुबे', तेज की गई चेकिंग-आत्मसमर्पण की भी कोशिश कर सकता है शातिर

» लखीमपुर में पुलिस की पिटाई से ग्रामीण की मौत, जिम्मेदारों का आरोप सेे इन्कार

» ग्राम प्रधान से दस लाख की फिरौती मांगने वाला अभियुक्त हुआ गिरफ्तार

» लखीमपुर के कुसुमघाट पर स्थापित की बॉर्डर आउट पोस्ट

 

नवीन समाचार व लेख

» गैंगस्टर एक्ट के तहत करीब एक करोड़ की संपत्ति हुई जब्त

» मौदहा -विकास दुबे के करीबी अमर दुबे को STF ने मुठभेड़ में मार गिराया

» मध्य प्रदेश में रहता है विकास का कुख्यात साला रालू खुल्लर, चंबल के बीहड़ में होने का शक

» मंत्री ने एक करोड़ राशि का प्रमाण पत्र बलिदानी सीओ की पत्नी को सौंपा, विकास के घर में मिले तीन बम

» अलीगढ़ मे लड़कियों से शारीरिक संबंध बनाने वाला फर्जी डीआइजी गिरफ़तार