यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

किसानों ने क्षेत्रीय विधायक पटेल शंशाक वर्मा को दिया ज्ञापन


🗒 गुरुवार, सितंबर 02 2021
🖋 शिवम कश्यप, जिला संवाददाता लखीमपुर खीरी
किसानों ने क्षेत्रीय विधायक पटेल शंशाक वर्मा को दिया ज्ञापन

 लखीमपुर (खीरी):-बेलरायां स्थिति सरजू सहकारी चीनी मिल को घाटे में देख किसानों ने क्षेत्रीय विधायक को एक ज्ञापन देकर मिल अधिकारियों व मेंटीनेंस ठेकेदारों व सप्लायरों की मिलीभगत से मिल से किए जाने वाले भुगतान की जांच की मांग की है।किसान ध्रुव वर्मा प्रधान प्रतिनिधि प्रमोद वर्मा पूर्व प्रधान महेश मिश्रा,झब्बू लाल,श्रवण कुमार, संतोष कुमार पूर्व प्रधान सहित तमाम किसानों ने सरजू सहकारी चीनी मिल के अतिथि गृह में निघासन विधायक पटेल शशांक वर्मा को ज्ञापन देते हुए अवगत कराया कि आज चीनी मिल हजारों करोड़ के घाटे में पहुंचते हुए बन्द होने की कगार पर पहुंच चुकी है जिसकी जांच कराने की मांग की है विधायक शशांक पटेल ने किसानों को भरोषा दिलाया कि वो किसानों की मांग को संज्ञान में लेते हुए भृष्टाचार की जांच कराएंगे। यहाँ आपको बताते चलें कि किसान चीनी मिल में हो रहे घाटे से काफी चिंतित है,मिल घाटे से उभरे और जिन कारणों से मिल घाटे में जा रही है उनका खुलासा हो किसान राकेश वर्मा,संजय वर्मा,धनीराम वर्मा,जसवंत वर्मा,देवेन्द्र वर्मा,रविन्द्र वर्मा का कहना है कि चीनी मिल बेलरायां कर्ज के बोझ तले दबकर इस स्थित में पहुंच चुकी है कि हजारों करोड़ का घाटा है अगर मिल अधिकारियों व ठेकेदारों व सप्लायरों की मिलीभगत की जांच न हुई तो वो दिन दूर नहीं जब मिल घाटे में पहुंचकर बन्द हो जाएगी वो दिन इलाके के लोगों के लिए काला दिन साबित होगा।उस काले दिन से बचने के लिए किसानों की नींद उड़ी हुई है किसान मिल बचाओ अभियान के तहत मिल के अधिकारियों की ठेकेदारों व सप्लायरों की मिलीभगत की जांच व चीनी,शीरा,बैगास,मई का शोसल आडिट की मांग कर रहे हैं।किसानों का यह भी मानना है कि अगर निष्पक्ष जांच एजेंसी से जांच कराई जाय तो कई लोगों पर गाज गिरना तय है इसलिए जांच को प्रभावित करने के लिए खबर न छापने को लेकर पत्रकारों को भी अप्रत्यक्ष रूप से धमकाया जा रहा है।आक्रोशित किसानों ने बताया कि की अगर निष्पक्ष जांच नहीं होती है तो हम किसान माननीय न्यायालय की शरण लेते हुए जनहित याचिका के माध्यम से मिल में फैले भृष्टाचार की जांच कराएंगे।

 

 

तराई क्षेत्र के गन्ना किसानों की जीवन दयनी कही जाने वाली सरजू सहकारी चीनी मिल में लगा भ्रष्टाचार का दीमक।

 

अस्तित्व बचाने को लेकर किसान लगातार दे रहे ज्ञापन, कुम्भकर्णी नींद से नही जाग रहा प्रशासन।

लखीमपुर खीरी से अन्य समाचार व लेख

» विधायक रोमी साहनी ने बाढ़ क्षेत्र का लिया जायजा,बाढ़ पीड़ितों की आर्थिक मदद!

» खेत में परवल तोडनें गये लड़के पर बाघ ने किया जानलेवा हमला!

» लापता किशोर का गन्ने के खेत में मिला शव

» पंचायत मित्र की धारदार हथियार से काटकर हत्या, दो गिरफ्तार

» युवती को छेड़ने घर में घुस गया युवक, जमकर हुई पिटाई