यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

होलिका दहन पर ध्यान रखें ये दस बातें


🗒 गुरुवार, मार्च 17 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
होलिका दहन पर ध्यान रखें ये दस बातें

हिंदू धर्म में होलिका दहन का पर्व विशेष माना गया है। लोग होलिका को जलाकर बुराई पर अच्छाई की विजय का त्योहार मनाते हैं। ऐसी मान्यता है कि इस दिन भगवान विष्णु ने बुआ होलिका की गोद में बैठे परमभक्त प्रहलाद की जान बचाई थी और नरसिम्हा का रूप रखकर हिरण्यकश्यप काे मृत्यु दी थी। नरसिम्हा का रूप भगवान विष्णु का चौथा अवतार माना जाता है। इसलिए होलिका दहन पर भगवान नरसिम्हा की पूजन की मान्यता है। होलिका दहन के समय लोग बेहतर स्वास्थ्य, सुख-समृद्धि, शांति की कामना करते हैं। आइए जानते हैं कि होलिका दहन के समय किन दस खास बातों का ध्यान रखना चाहिये...।

होलिका दहन पर ध्यान रखें ये बातें :-

1-मंत्र जाप करते हुए हाेलिका की 11 परिक्रमा जरूरी : भद्रा समाप्ति के बाद ही होलिका दहन होता है। धूनी ध्यान केंद्र के आचार्य अमरेश मिश्र बताते हैं कि होलिका पूजन के स्थान पर धूप, दीप और गोबर का लेप करके चौक बनाना चाहिए। मंत्रोच्चारण के बीच होलिका दहन कर उसमें गेहूं की बाली और गन्ना लेकर ओम होलिकाय नम: का जाप करते हुए 11 परिक्रमा करनी चाहिए। मान्यता है कि ऐसा करने से हर तरह की परेशानियां, रोग और दोष दूर होते हैं।

2-लौंग करें अर्पित : भगवान विष्णु का स्मरण करते हुए होलिका की परिक्रमा करने से सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है। होलिका में हवन सामग्री और लौंग अर्पित करना भी शुभकारी होता है।

3-हवन सामग्री और घी डालें : पंडित पीएन द्विवेदी ने बताते हैं कि होलिका दहन में सभी को हवन सामग्री के साथ घी, लौंग, कपूर अर्पित करना चाहिए। जब उपले और गो-काष्ठ की होलिका में यह सामग्री पड़ेगी तो पर्यावरण शुद्धि होगी। ओम होलिकाएं नम: का जाप करते हुए हर परिवार को हवन सामग्री जरूर अर्पित करनी चाहिए। वातावरण शुद्धि के साथ नकारात्मक ऊर्जा को नष्ट करने में यह लाभदायक होता है।

4-शत्रु से भी बचाव : कहा जाता है कि भगवान विष्णु से प्रार्थना करते हुए सात गोमती चक्र होलिका में डालने से शत्रु से मुक्ति मिलने की मान्यता है।

5-बाधाओं से छुटकारा : अनजाने में बुरी बाधाओं या दोष से मुक्ति के लिए भी होलिका पूजन किया जाता है। इसमें हल्दी का उबटन और सरसों तेल में मिलाकर पूरे शरीर पर मलने के बाद सूखने पर छुड़ा लें। शरीर से निकले उबटन की लोई बनाएं और उसमें खुद की लंबाई के बराबर धागा काटकर लपेट दें। इसके गाय के गोबर से बने 5-11 उपले और एक मुट्ठी सरसों के दाने के साथ नारियल के सूखे गोले में जौ, तिल, सरसो का दाना, शक्कर, चावल और घी भर लें। इसके बाद उबटन की लोई समेत सारा कुछ जलती होलिका में डाल दें। ऐसा मानते हैं कि इस क्रिया से जीवन की बाधाओं से छुटकरा मिलता है।

6-उत्तर दिशा में जलाएं शुद्ध घी का दीपक : होलिका दहन होने पर शाम के समय घर की उत्तर दिशा में शुद्ध घी का दीपक जलाएं। इससे घर में सुख शांति आती है।

7-हनुमान चालीसा व सुंदरकांड का पाठ करें : होलिका दहन की रात हनुमान जी का पूजन बेहद फलदायी माना जाता है। होलिका दहन की रात हनुमान चालीसा या फिर सुंदरकांड का पाठ करें। मान्यता है कि इससे दुख और कष्टों का निवारण होता है।

8-महिलाएं करें ये काम : मान्यता के अनुसार होलिका दहन के समय महिलाओं का सिर खुला नहीं होना चाहिए। होलिका दहन पर पूजा के समय महिलाओं को सिर पर पल्लू या फिर दुप्ट्टा जरूर होना चाहिए।

9-व्यापार-नौकरी में सफलता के लिए उपाय : व्यापार या नौकरी में सफलता के लिए 21 गोमती चक्र होलिका दहन वाले दिन शिव मंदिर में शिवलिंग पर अर्पित करें। मान्यता है कि ऐसा करने से तरक्की के रास्ते खुलते हैं।

10-कभी न करें ये गलती : ऐसा कहा जाता है कि होलिका दहन के दिन किसी को भी कोई रकम या सामान उधार नहीं देना चाहिए। माना जाता है कि इस दिन उधार देने से घर की बरकत चली जाती है और आर्थिक समस्याएं आने लगती हैं।

उत्तर प्रदेश से अन्य समाचार व लेख

» आर्थिक सहायता दिलाने के लिए राष्ट्रीय लोधी महासभा ने मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन।

» टेली लॉ द्वारा आम जन मानस तक पहुचाए कानूनी सहायता -अतुलित राय सी एस सी प्रमुख उत्तर प्रदेश

» पत्रकारिता के नैतिक आयाम स्वच्छ एवं नशा मुक्त भारत विषय में संगोष्ठी का आयोजन एवं विशिष्ट पत्रकार सम्मान समारोह का आयोजन हुआ।

» हत्‍या के मामले में यूपी अव्‍वल तो दूसरे पायदान पर बिहार

» हजारों नशीली गोलियां और इंजेक्शन की खेप बरामद, चार गिरफ्तार