यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बीएचयू बवाल प्रकरण में 12 नामजद एफआइआर दर्ज और 30 अज्ञात के खिलाफ तहरीर


🗒 सोमवार, सितंबर 05 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
बीएचयू बवाल प्रकरण में 12 नामजद एफआइआर दर्ज और 30 अज्ञात के खिलाफ तहरीर

वाराणसी : भारत-पाक क्रिकेट मैच के बाद काशी हिंदू विश्वविद्यालय में छात्रों के दो समूहों के बीच हुए बवाल, मारपीट व पथराव को लेकर सोमवार को भी तनाव कायम रहा। लाल बहादुर शास्त्री छात्रावास के छात्रों ने बिड़ला सी छात्रावास के शारीरिक शिक्षा संकाय के 12 छात्रों को नामजद करते हुए 30 अन्य अज्ञात के विरुद्ध तहरीर दी है।सोमवार को लिखित तहरीर देने लंका थाने जा रहे छात्रों को पुलिस बल ने सिंहद्वार पर ही रोक लिया और वहीं उनसे तहरीर ले ली। मुकदमा दर्ज कर समुचित कार्रवाई का आश्वासन दे उन्हें वापस भेज दिया। लंका इंस्पेक्टर बृजेश सिंह ने बताया कि तहरीर के आधार पर सौरभ मिश्रा, प्रमोद कुशवाहा, सदानंद गिरी, रोहित यादव, चैतन्य कौशिक, मयंक जाट के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। जांच कर आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई होगी। बीएचयू चौकी प्रभारी धीरेंद्र प्रताप सिंह ने मारपीट वाले जगह पर लगे सीसीटीवी कैमरा का फुटेज लिया।रविवार की आधी रात एशिया कप क्रिकेट में भारतीय टीम की हार के बाद किसी बात पर बिड़ला सी के शारीरिक शिक्षा संकाय के छात्रों से लाल बहादुर शास्त्री छात्रावास के छात्रों की कहासुनी हो गई। यह बाद में मारपीट में बदल गई। आरोप है कि बिड़ला सी के छात्र हाथों में डंडा, राड, हाकी लेकर एलबीएस छात्रावास में घुसकर जो मिला, उसे पीटने लगे। एलबीएस के छात्रों ने भी उन्हें खदेडऩे के लिए ईंट-पत्थर चलाए। इस मारपीट में एलबीएस के लगभग 12 छात्रों को चोटें आई।इनमें आगरा निवासी बीए अंतिम वर्ष के छात्र हर्षित रावत व बिट्टू बाबू का सिर फट गया। घटना के विरोध में एलबीएस के छात्र बिड़ला छात्रावास चौराहे पर धरना पर बैठ गए। जानकारी मिलते ही एसीपी भेलूपुर प्रवीण सिंह छह थानों की फोर्स लेकर वहां पहुंच गए। घायल छात्रों का ट्रामा सेंटर में इलाज कराया गया।काफी मान-मनौव्वल के बाद रात ढाई बजे के बाद धरना दे रहे छात्र कार्रवाई के आश्वासन पर माने। सोमवार की दोपहर को एलबीएस के छात्र लिखित तहरीर लेकर लंका थाने को रवाना हुए। सिंहद्वार पर ही एसीपी प्रवीण सिंह के नेतृत्व में मौजूद पुलिस बल ने उन्हें रोक लिया और उनकी तहरीर लेकर, कार्रवाई का आश्वासन दिया। पीटे गए छात्रों का आरोप है कि भारत की हार के बाद शारीरिक शिक्षा विभाग के छात्र पाकिस्तान समर्थक नारे लगा रहे थे। इसका विरोध करने को लेकर बवाल हुआ।