वाराणसी में सिपाहियों को भड़काने वाले बर्खास्त सिपाही बृजेंद्र सिंह यादव पर लगी रासुका

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

वाराणसी में सिपाहियों को भड़काने वाले बर्खास्त सिपाही बृजेंद्र सिंह यादव पर लगी रासुका


🗒 शनिवार, अक्टूबर 27 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

 कानून का पालन कराने, आम नागरिकों की रक्षा करने वाली उत्तर प्रदेश पुलिस में भी बगावत के स्वर उठ चुके हैं, इसी कड़ी में उच्च अधिकारियों के खिलाफ सिपाहियों को भड़काने के आरोप में जिला जेल में बंद बर्खास्त सिपाही बृजेंद्र सिंह यादव को वाराणसी के जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह ने राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (एनएसए) के लिए संस्‍तुति कर दी है। लिखा है कि जेल से बाहर निकलने पर आरोपी द्वारा फिर माहौल खराब होने से इंकार नहीं किया जा सकता है। ऐसे में बर्खास्त सिपाही को जेल में रहने में ही समाज का हित है। साथ में कानून का पालन हो सकेगा। 

 वाराणसी में सिपाहियों को भड़काने वाले बर्खास्त सिपाही बृजेंद्र सिंह यादव पर लगी रासुका

बर्खास्त सिपाही बृजेंद्र सिंह यादव ने अराजपत्रित पुलिस वेलफेयर 'रक्षक कल्याण ट्रस्ट' बनाकर स्वयं को उनका राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित कर लिया। स्वयं द्वारा बनाए गए न्यूज चैनल 'रक्षक कल्याण न्यूज चैनल' में चार अक्टूबर को 2.50 घंटे इंटरव्यू को प्रसारित किया जिसमें 2.24 से 2.42 घंटे के बीच बर्खास्त सिपाही द्वारा यह कहा गया कि कर्मचारियों को हमने बोल दिया है, पांच अक्टूबर को काली पट्टी बांधकर विरोध जताएं, 11 अक्टूबर को मेस में हड़ताल करें। इसके बाद बड़े पैमाने पर आंदोलन शुरू किया जाएगा, इसका इतिहास गवाह होगा। बर्खास्त सिपाही ने शासन विरुद्ध लोक व्यवस्था बिगाडऩे के उद्देश्य से आंदोलन किया गया है। इसके चलते पुलिस बल दुष्प्रेषण होने के साथ आवश्यक सेवाएं प्रभावित हुई। वाराणसी में धारा 144 लागू होने के बाद भी बर्खास्त सिपाही जिला मुख्यालय के बाहर पांच अक्टूबर को सिपाही को भड़काने का काम किया। वह लखनऊ में विवेक तिवारी हत्याकांड में शामिल सिपाही के पक्ष में भी बयान दिया। 

जिला मुख्यालय के बाहर बर्खास्त सिपाही को प्रदर्शन करने से मना किया तो भी वे विरोध में नारेबाजी करता रहा। वहां गुजर रहे सिपाहियों को रोक-रोकर संगठन बनाने के साथ शासन के खिलाफ एकजुट होने की बात करता रहा। सिपाही ने जारी बयान में कहा कि अपराधी का साइकिल से पीछा करें लेकिन अपना मोबाइल बंद कर दें, मोबाइल सिर्फ व्यक्तिगत कामों के लिए इस्तेमाल करें। अपराधी भागता है तो भागने दें, अराजकता पैदा होगा तब समझ में आएगा।

वाराणसी से अन्य समाचार व लेख

» वाराणसी में इस बार खास रेत पर बने नज़र आये कान्हा

» मुख्यमंत्री ने काशी में बाढ़ की स्थिति जानने के लिए किया गंगा और वरुणा में भ्रमण, कहाँ प्रदेश में बाढ़ नियंत्रण में

» जूली की वफादारी की देते हैं मिशाल

» वाराणसी में मुख्‍यमंत्री ने दूसरे दिन भी किया दौरा, बाढ़ का जायजा लेने पहुंचे राजघाट

» काल भैरव मंदिर में सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नवाया शीश

 

नवीन समाचार व लेख

» ईडी ने चिदंबरम की काली कमाई का दिया ब्‍योरा, 54 करोड़ की संपत्ति हुई जब्‍त

» वाराणसी में इस बार खास रेत पर बने नज़र आये कान्हा

» मथुरा मे कान्हा के जन्मोत्सव की झलक देखने के लिए उमड़ रही आस्था

» सीएम योगी योगेश्वर की वंसुधरा पर आ रहे बदला यातायात, व्‍यवस्‍थाएं हुईं पूरी

» लखनऊ के आलमबाग मे सिंधी अकादमी द्वारा थदड़ी सिंधी पर्व का हुआ आयोजन