यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

वाराणसी मे चौकाघाट पंपिंग स्‍टेशन के पास मेन होल में गिरकर मजदूर चाचा भतीजा की हुई मौत


🗒 शनिवार, नवंबर 10 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लोकार्पण से दो दिन पहले चौकाघाट स्थित पंपिग स्टेशन से जुड़े सीवर के मेन होल में दो मजदूर डूब गए, इसमें एक की मौत हो गई जबकि दूसरे की तलाश जारी है। बिहार के ये दोनों मजदूर रिश्ते में चाचा-भतीजा थे। एनडीआरएफ ने 20 वर्षीय एक मजदूर का शव निकाल लिया लेकिन दूसरे मजदूर का शव देर शाम तक नहीं मिला था। चेतगंज थाने की पुलिस ने इस घटना में जल निगम के अभियंता तथा ठेकेदार को गिरफ्तार किया है। गंगा और वरुणा नदी की निर्मलता के लिए तैयार 140 एमएलडी क्षमता के दीनापुर एसटीपी के लिए चौकाघाट में ओवरब्रिज के बगल में पंपिग स्टेशन बनाया गया। 12 नवंबर को प्रधानमंत्री इसका लोकार्पण करने वाले हैं। पंपिग स्टेशन चालू करने की हड़बड़ी में शनिवार की सुबह जल निगम के ठेकेदार ने हुकुलगंज सट्टी से तीन मजदूरों को मेनहोल में ब्लाक तोडऩे के लिए बुलाया। मजदूर पहले सीढ़ी से 15 फुट ऊंचे मेनहोल के मुहाने पर पहुंचे फिर हथौड़ा-छेनी लेकर 30 फुट नीचे उतरकर ब्लाक तोडऩे लगे।

वाराणसी मे चौकाघाट पंपिंग स्‍टेशन के पास मेन होल में गिरकर मजदूर चाचा भतीजा की हुई मौत

ब्लाक टूटने पर सीवर के गैस का झोंका और फिर गंदा पानी आया। विषैली गैस से मजदूरों को चक्कर आने लगा। 20 वर्षीय विकास पासवान बेहोश होकर सीवर में गिरा तो दिनेश (28) उसे बचाने का प्रयास करने लगा। तीसरे मजदूर सत्येंद्र पासवान (30) ने सड़क किनारे एक दुकान से रस्सी लाकर मेनहोल के मुहाने से नीचे डाली तो दिनेश उसके सहारे विकास का हाथ थाम ऊपर आने लगा। कुछ ही फुट ऊपर आने के बाद विषैली गैस की वजह से चक्कर आने पर रस्सी उसके हाथ से छूट गई। वह विकास समेत नीचे सीवर में जा गिरा।सत्येंद्र ने फोन किया तो विकास का और दिनेेश के भाई आ गए। खबर पाकर चेतगंज थाने की पुलिस पहुंची और एनडीआरएफ को जानकारी दी।  एनडीआरएफ के दल ने आकर विकास को बाहर निकाला लेकिन उसकी मौत हो चुकी थी। दिनेश सीवर में गुम हो चुका था, जेसीबी बुलाकर मेनहोल की 10 फुट दीवार तोड़ी गई। फिर कुछ दूर तक जेसीबी से खोदाई की गई। दरअसल दीनापुर एसटीपी के लिए यहां से गंदा पानी भेजा जाना था और एसटीपी का प्रधानमंत्री को उद्घाटन करना था। इसी तैयारी के क्रम में भभुआ निवासी चाचा और भतीजा दोनों ही मेन होल में काम करने उतरे हुए थे। इस दौरान अचानक दोनों ही मजदूर मेनहोल में गिर गए जिसके बाद हडकंप मच गया। लोगों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने जेसीबी की सहायता से निकालने की कोशिश की मगर असफल रहे।दिनेश और उसके भतीजे विकास की मौत के लिए सीधे तौर पर जल निगम में गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई द्वारा बरती गई आपराधिक लापरवाही जिम्मेदार है। पुलिस ने मौके से भाग रहे ठेकेदार पंकज श्रीवास्तव और जेई विक्की कश्यप को पकड़ लिया। उन्हें चेतगंज थाने में बंद किया गया है।

वाराणसी से अन्य समाचार व लेख

» वाराणसी मे वृद्ध को गांव के दबंगों ने पीटकर किया अधमरा, मरा हुआ जानकर बोरे में बांधकर फेंका

» नवनिर्वाचित सांसद अतुल राय की समर्पण अर्जी खारिज, तीसरी बार तय की गई तिथि पर नहीं किया समर्पण

» जिला वाराणसी के संतों ने पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी को भेजा रामचरित मानस

» अतीक अहमद को कड़ी सुरक्षा में लाया गया एयरपोर्ट, भेजा गया अहमदाबाद

» जिला वाराणसी में लाखों के बहुराष्ट्रीय कम्पनियों का सामान जब्त

 

नवीन समाचार व लेख

» जिला कौशांबी में पुलिस और ग्रामीणों के बीच संघर्ष, मारपीट और फायरिंग से पुलिस समेत कई घायल

» संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कश्मीर में अनुच्छेद-370 खत्म करने की सरकार से उम्मीद

» बसपा की डगर अकेले आसान नहीं लोकसभा चुनाव में सपा से गठबंधन में मिली संजीवनी

» UP मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ईद के अवसर पर प्रदेशवासियों को दीं हार्दिक शुभकामनाएं

» औरैया में सहार गोशाला के निकट गोशाला के पास मिले 12 मृत गोवंश, आक्रोशित लोगों ने कहा संसाधन न होने से हो रहीं मौतें