यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

वाराणसी नगर निगम और एनटीपीसी के बीच समझौता, लगेगा कचरे से बिजली बनाने का प्लांट


🗒 बुधवार, जुलाई 17 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

सलाउद्दीन अली एसोसिएट एडिटर : वाराणसी

वाराणसी नगर निगम और एनटीपीसी के बीच समझौता, लगेगा कचरे से बिजली बनाने का प्लांट

कमिश्नर ने कहा कूड़ा निस्तारण रहती है बनी चुनौती, जाने कब तक शुरु होगा काम और कितना आ रहा खर्च…
वाराणसी/  देवाधिदेव महादेव की नगरी काशी में बाबा के सबसे प्रिय श्रावण मास में नगर निगम व प्रशासन ने स्वच्छता व पर्यावरण की दिशा में बड़ा कदम उठाया है। इसके लिए नगर निगम व एनटीपीसी के बीच बुधवार को कमिश्नरी सभागार में कमिश्नर दीपक अग्रवाल, महापौर श्रीमती मृदुला जायसवाल, अमित कुमार कुलश्रेष्ठ जीएम एनटीपीसी, आर0के0 बड़ेरिया एडवाइजर एनटीपीसी, अवनीश गौतम डीजीएम( तकनीकी विभाग एनटीपीसी), नगर आयुक्त आशुतोष कुमार द्विवेदी की उपस्थिति में नगर निगम व एनटीपीसी के बीच एमओयू साइन हुआ। इस दौरान हुई बैठक में कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने उपस्थित अधिकारियों को बताया कि नगर निगम व एनटीपीसी के सहयोग से वाराणसी जनपद में कूड़ा-कचरा से बिजली (वेस्ट टू इनर्जी) का पहला प्रोजेक्ट लगेगा। काशी के लिए आज का दिन गौरवान्वित होने का है। उन्होंने बताया कि शहर में प्रतिदिन लगभग 600 मेट्रिक टन कूड़ा निकलता है। किसी भी बड़े शहर के लिए कूड़ा निस्तारण एक बड़ी चुनौती रहती है। पर्यावरण की दृष्टि से कूड़ा निस्तारण इको फ्रेंडली हो। जिसके लिए एनटीपीसी के सहयोग से वेस्ट टू इनर्जी प्रोजेक्ट लगेगा। जिसमें शहर के पूरे वेस्ट से एनर्जी बनेगी। यह प्लांट इको फ्रेंडली होगा। इसके निर्माण पर 250 से 300 करोड़ रुपए का खर्च आएगा। जो एनटीपीसी वहन करेगा। वहीं प्रोजेक्ट के लिए जमीन नगर निगम उपलब्ध कराएगा। कार्य शुरू होने के बाद 30 माह में प्लांट पूर्ण होकर संचालित करने की समयसीमा रखी गई है। साथ ही कमिश्नर ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि इससे काशी नगरी के कूड़ा निस्तारण का धारणीय समाधान होगा।
कूड़े-कचरे को अलग कर किया जाएगा ज्वलनशील
कमिश्नर ने एनटीपीसी के अधिकारियों ने बताया कि प्लांट में कूड़ा-कचरा को अलग-अलग करके ज्वलनशील जैसे- कचरे से विद्युत, वार्डाडिग्रिडेटिड से वायीमीथेन व अन्य से सिविल कंस्ट्रक्शन मैटेरियल बनाया जाएगा। उन्होंने बताया कि एनटीपीसी में वेस्ट टू इनर्जी का अलग विंग है। जो इसे देखती है। इसके लिए सूरत व दिल्ली में प्रोजेक्ट बने हैं। इसी तर्ज पर वाराणसी में इंटीग्रेटेड वेस्ट टू इनर्जी का इतनी बड़ी क्षमता का यह पहला प्रोजेक्ट होगा। इस प्रोजेक्ट के माध्यम से एनटीपीसी ने काशी से जुड़ने पर प्रसन्नता जाहिर की है।
एनटीपीसी का सहयोग सराहनीय
महापौर मृदुला जायसवाल ने कहा कि काशी को विकसित करने के लिए हम हमेशा प्रयासरत रहे हैं। उन्होंने कहा की इस प्रोजेक्ट के लिए एनटीपीसी का सहयोग सराहनीय है। शहर को साफ-सुथरा व इको फ्रेंडली रखने में यह प्रोजेक्ट महत्वपूर्ण साबित होगा। वहीं कमिश्नर दीपक अग्रवाल एनटीपीसी के अधिकारियों का धन्यवाद करते हुए कहा की काशी से सदैव देश व विदेश में अनुकरणीय संदेश जाता है। यह वेस्ट टू इनर्जी का प्रोजेक्ट भी अच्छा संदेश देगा।

वाराणसी से अन्य समाचार व लेख

» वाराणसी में 24 लाख 64 हजार पौधारोपण का योगदान होगा

» पिसौर पुल के पास बदमाश और पुलिस के बीच मुठभेड़, क्राइम ब्रांच का सिपाही घायल

» जंसा थाना के सोनबरसा गांव में प्रेमिका से मिलने पहुंचे प्रेमी को ग्रामीणों ने पीटकर पुलिस को सौंपा, भेजा जेल

» जिला वाराणसी में युवक ने आनलाइन मंगाया कीमती मोबाइल, पैकेट में भेज दिया पत्थर

» वाराणसी में BJP नेता कलराज मिश्रा के दामाद ने दी पुलिस को धमकी 'वर्दी उतरवा दूंगा