यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

भारत छोड़ो आंदोलन की 77वीं वर्षगांठ पर काशी में हुआ रिकॉर्ड एकदिनी वृक्षारोपण


🗒 शुक्रवार, अगस्त 09 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

वाराणसी। भारत छोड़ो आंदोलन की वर्षगांठ पर प्रदेश भर में वृहद एक दिनी 22 करोड़ी वृक्षारोपण के अवसर पर वाराणसी में वृहद वृक्षारोपण हुआ। सुबह से ही पूरे जनपद में गांव से लेकर शहरी क्षेत्रों में युद्ध स्तर पर वृक्षारोपण कार्य शुरू हुआ। गढ्ढे पहले से खोदे गए थे। पौधों की पूर्व दिवस में ही व्यवस्था कर ली गई थी। सरकारी कार्मिकों की विभागों में क्षेत्रवार ड्यूटी लगाई गई थी। वृक्षारोपण में विभिन्न सामाजिक संगठनों, निजी संस्थाओं ने भी बढ़-चढ़कर भागीदारी की।
विकासखंड सेवापुरी के ग्राम राखी नेवादा में गांधी उपवन वाटिका तथा पंचवटी की स्थापना की गई। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में प्रदेश के विधि न्याय, युवा कल्याण, खेल एवं सूचना राज्यमंत्री डॉ नीलकंठ तिवारी ने बरगद, शासन से आए पर्यवेक्षण अधिकारी डॉ रजनीश दुबे ने पीपल, कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने बेल, जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह ने आंवला, मुख्य वन संरक्षक के0के0 पांडेय ने अशोक का पौधा रोपण किया। गांधी उपवन वाटिका में 5500 पौधों का 5 एकड़ भूमि में पौधारोपण किया गया।
इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के विधि-न्याय, युवा कल्याण, खेल एवं सूचना राज्यमंत्री डॉ नीलकंठ तिवारी ने कहां की मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की महत्वाकांक्षी परिकल्पना से यह 22 करोड़ का विश्व रिकार्ड बनाया था। काशी ने इसमें बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया है। इससे काशी क्षेत्र हरा भरा और प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर होगा। उन्होंने लोगो से अपील की, कि वे आगे आएं, हर व्यक्ति एक पौधे को गोद ले और उसका पोषण करे। आइये,आगे बढ़ अपनी धरती माँ को बचाएं और आने वाली पीढ़ियों के लिए बेहतर पर्यावरण सुनिश्चित करें। उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि वृक्ष जीवन के आधार हैं और जीवन को सुरक्षित करने के लिए पर्यावरण संतुलन महत्वपूर्ण है। वृक्षारोपण के इस महाकुंभ में जितने भी पौधों का आज रोपण किया गया है, उनका पालन पोषण भी आवश्यक हैं। मौके पर मौजूद अधिकारियों को निर्देशित करते हुए उन्होंने कहा कि इन पौधों को लगने तक इनका पूरी तरह देखभाल किया जाए। इसमें किसी भी स्तर पर लापरवाही नहीं होना चाहिए। नोडल अधिकारी रजनीश दुबे ने कहा कि वृक्षारोपण कार्य बड़े व्यवस्थित तरीके से किया गया है। वृक्ष लगाना सबसे बड़ा यज्ञ है।
इस अवसर पर जल शक्ति के ज्वाइंट सेक्रेट्री, नमामि गंगे के ई0डी0, इको टास्क फार्म के लेफ्टिनेंट कर्नल, ब्लाक प्रमुख सुरजीत सिंह, प्रधान घनश्याम यादव, सृजन सामाजिक न्याय के अनिल सिंह, राजेश शुक्ला सहित भारी संख्या में ग्रामीण, गणमान्य नागरिक व हजारों की संख्या में स्कूली बच्चे, एनसीसी कैडेट आदि उपस्थित रहे।
वृक्षारोपण महाकुंभ के अवसर पर एनपीआरसी लोहता में अपर जिलाधिकारी नगर विनय कुमार सिंह ने पौधारोपण किया तथा इस अवसर पर परिसर में लगाए गए 545 पौधों की देखरेख के लिए उन्होंने विद्यालय के बच्चों को शपथ दिलाई।

भारत छोड़ो आंदोलन की 77वीं वर्षगांठ पर काशी में हुआ रिकॉर्ड एकदिनी वृक्षारोपण

वाराणसी से अन्य समाचार व लेख

» एतिहासिक वृक्षारोपण का गवाह बना अलीगढ़ शहर

» बारिश से नदियों के जलस्तर में हो रही लगातार बढ़ोत्तरी, तटवर्ती इलाको में चिंता बढ़ी

» श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर के सुगम दर्शन पैकेज में जल्द ही में जुड़ेगा आभासी संग्रहालय

» वाराणसी मे में तीन दिनों से बाघ की दहशत, शाम होते ही घर में कैद हो रहे हैं ग्रामीण

» वाराणसी मे दिन दहाड़े बैंक कैशियर को गोली मारकर लूटे डेढ लाख रुपये, बदमाश मौके से फरार

 

नवीन समाचार व लेख

» छटीकरा के कुश्ती दंगल में 5 लाख पर हुई आखिरी कुश्ती बराबर छूटी

» मथुरा में कच्छाधारी गैंग की अफवाहों से जनता में आक्रोश, संदिग्ध व्यक्ति की जमकर की पिटाई

» गौ आश्रय केंद्र सहित विद्यालयों में किया गया वृक्षारोपण

» मोहनलालगंज विकासखंड उत्तर प्रदेश के वृहद वृक्षारोपण महापर्व अभियान चलाया

» आधार कार्ड बनवाने के लिए अभिभावक हप्तो लगा रहे बैंक के चक्कर