सावन के अंतिम सोमवार एवं बकरीद को देखते हुए, डीएम ने किया विभिन्न स्थलों का दौरा

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

सावन के अंतिम सोमवार एवं बकरीद को देखते हुए, डीएम ने किया विभिन्न स्थलों का दौरा


🗒 शनिवार, अगस्त 10 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

सत्येन्द्र कुमार नंदा

सावन के अंतिम सोमवार एवं बकरीद को देखते हुए, डीएम ने किया विभिन्न स्थलों का दौरा

वाराणसी। जिलाधिकारी सुरेन्द्र सिंह ने श्रावण मास के अन्तिम सोमवार एवं बकरीद पर्व को देखते हुए विभिन्न स्थलों का निरीक्षण किया। निरीक्षण करते हुए पुलिस लाईन, ताडीखाना तिराहा, विद्यापीठ एवं फातमान रोड पर बने मस्जिदों का भी दौरा किया । पुलिस लाईन के पास यातायात व्यवस्था एवं श्रद्धालुओं के आवागमन तथा नमाज अदायगी के दौरान के परेशानी न हो इसके लिये संबंधित मजिस्ट्रेट एवं पुलिस अधिकारियों को निर्देशित किया। ताड़ीखाना तिराहे के पास जमा गंदा पानी एवं कीचड़ के साफ-सफाई ठीक से कराने का निर्देश दिया । काशी विश्वनाथ मन्दिर का निरीक्षण करते हुए उन्होंने आवागमन हेतु अलग-अलग लाइने बनवाने तथा काशी विश्वनाथ मन्दिर में एक ही समय नमाजियों एवं श्रद्धालुओं की भीड़ को व्यवस्थिति करने के लिए एस0पी0 सुरक्षा तथा मन्दिर के अधिकारियों को निर्देशित किया।
इसके बाद विकास भवन सभागार में बकरीद पर्व के मद्देनजर अल्पसंख्यक समुदाय के साथ बैठक कर पर्व को शान्तिपूर्ण एवं गंगा जमुनी तहजीब के साथ मनाने को कहा तथा कोई भी कार्य ऐसा न किया जाय, जिससे किसी को दिक्कत हो। उन्होंने साफ-सफाई तथा कुर्बानी के अवशेषों को एक जगह एकत्रित कराने का भी निर्देश दिया। ताकि उसका निस्तारण भी ठीक ढंग से किया जा सके।बैठक में एस0एस0पी आनंद कुलकर्णी, अपर जिलाधिकारी नगर विनय कुमार सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक नगर दिनेश सिंह सहित समस्त मजिस्ट्रेटगण एवं अल्पसंख्यक समुदाय के सम्मानित नागारिक भी उपस्थित रहे।

वाराणसी से अन्य समाचार व लेख

» महाशिवरात्रि पर पंचकोशी यात्रियों शिवभक्तों की डगर होगी मुश्किलों भरी

» पत्रकारों को देते है कोतवाली इस्पेक्टर पत्रकारिता अंदर डालने की धमकी

» वाराणसी -पत्रकारों को देते है कोतवाली इस्पेक्टर पत्रकारिता अंदर डालने की धमकी

» सरकार ने कहा कि उत्तर प्रदेश को 1 ट्रिलियन डॉलर की इकोनामी बनाया

» भारतीय संस्कृति की रक्षा शास्त्रार्थ के माध्यम से ही सम्भव है-कुलपति प्रो0 राजाराम शुक्ल