यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

पत्रकारों से और उत्पीड़न अब बर्दाश्त नहीउत्तर प्रदेश सचिव आईरा


🗒 गुरुवार, अगस्त 15 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

जीशान अहमद वाराणसी » प्रभारी पूर्वांचल-1(प्रभारी पूर्वांचल-1)

पत्रकारों से और उत्पीड़न अब बर्दाश्त नहीउत्तर प्रदेश सचिव आईरा

रस्सी जल गई पर बल नहीं गया की तर्ज पर है कांग्रेस
सत्ता से तो चले ही गये अब अपनी मर्यादा से भी लांघ कर सारी हदें कर दी पार
लोकतंत्र का चौथा स्तंभ अब नहीं है,पूरी तरह से सुरक्षित
देश की सुरक्षा की बात करने वाली राजनीतिज्ञ पार्टियों से ही नहीं है  पत्रकार ,सुरक्षित
कांग्रेस पार्टी की राष्ट्रीय सचिव प्रियंका गांधी वाड्रा मंगलवार को सोनभद्र के उम्भा में नरसंहार के पीड़ितों का हाल जानने पहुंची थी। प्रियंका गांधी के कार्यक्रम को  एबीपी गंगा के ब्यूरो चीफ़ पत्रकार नीतीश पांडेय कवरेज करने पहुंचे थे उन्होंने प्रियंका गांधी के कश्मीर से 370 धारा हटाए जाने पर प्रियंका गांधी का स्टैंड जानना चाहा कि तभी प्रियंका गांधी के निजी सचिव संदीप सिंह ने पत्रकार नीतीश पांडेय के साथ दुर्यव्यवहार करते हुए।उन्हें जान से मारने धमकी देने के साथ ही उन्हें ठोक देने की बात कहने लगा। सब कुछ प्रियंका गांधी के सामने चलता रहा परंतु प्रियंका गांधी ने कोई भी एक्शन नहीं लिया।
अब पत्रकारों से दुर्यव्यवहार बर्दाश्त नही
प्रियंका गांधी के निजी सचिव संदीप सिंह द्वारा पत्रकार नीतीश पांडेय के साथ हुए दुर्व्यवहार व उन्हें जान से मारने की धमकी को लेकर वाराणसी सोनभद्र लखनऊ के पत्रकारों में आक्रोश है। वाराणसी में पत्रकारों ने जगह जगह अपने पत्रकार संगठन के बैनरतले कैंडल मार्च निकालकर अपना विरोध जताया। और संदीप सिंह की गिरफ्तारी की मांग की,पत्रकारों ने यह भी कहा कि पत्रकारों के साथ किसी भी तरह का दुर्व्यवहार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।
पत्रकार नीतीश पांडे को मिले जल्द न्याय ,नहीं तो बड़ा आंदोलन करने को बाध्य होंगें पत्रकार
आईरा ने सरकार से मांग की है कि प्रियंका गांधी की निजी सचिव संदीप सिंह के ऊपर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए और यदि जल्द ही पीड़ित पत्रकार नितीश पांडेय को न्याय नहीं मिलता है,तो हम सभी पत्रकार बड़ा आंदोलन करने के लिए बाध्य होंगे। जिसकी जिम्मेदार सिर्फ और सिर्फ सरकार होगी।
सत्ताधारी  वाले भी धमकाते है पत्रकारों को
इससे पहले भी बीजेपी मंत्री के सामने कार्यकर्ताओं ने पत्रकारों को जान से मारने की धमकी दी थी। उस दौरान भी पत्रकारों ने जबरदस्त विरोध प्रदर्शन किया था और बीजेपी के काशी क्षेत्र के अध्यक्ष से अपनी नाराजगी जताई थी।
जब लोकतंत्र का चौथा स्तंभ ही  नहीं है सुरक्षित, तो आम जनता अपने को कैसे  समझेगी सुरक्षित
पत्रकार नीतीश पांडेय की तहरीर पर पुलिस ने संदीप सिंह की विरुद्ध केस दर्ज कर लिया है। सरकार चाहे जिसकी भी हो लेकिन अब सवाल यह उठता है। कि जब पत्रकार राजनीतिक पार्टियों के लोगों से ही सुरक्षित नहीं है, तो फिर कहां सुरक्षित होगा।जब देश में लोकतंत्र का चौथा स्तंभ ही सुरक्षित नहीं तो आम जनता अपने आप को कैसे सुरक्षित महसूस करेगी

वाराणसी से अन्य समाचार व लेख

» गांजा-भांग की तस्करी करने वाला गिरोह चढ़ा पुलिस के हत्थे, चार गिरफ्तार, लाखो कैश बरामद

» जिला वाराणसी में खोला गया बिजली थाना, बिजली चोरों पर आसानी से दर्ज हो सकेगा मुकदमा

» अब वाराणसी में भी कोर्ट के फैसले से रैदासियों में रोष, यथास्थिति की उठी मांग

» डीएम व एसएसपी ने जिला जेल में की छापेमारी, मिलीं खामियों को दुरूस्त करने का निर्देश

» उप मुख्यमंत्री ने बाबा विश्वनाथ के दरबार में टेका मत्था, सबके कल्याण की मंगल कामना की

 

नवीन समाचार व लेख

» डीएम, एसएसपी, एसडीएम को एनजीटी न्यायालय ने किया तलब

» जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के खिलाफ याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई कल

» पीएम मोदी का बड़ा ऐलान, पॉलीथीन मुक्त भारत को लेकर दो अक्टूबर को चलेगा देश भर में अभियान

» नौकरी दिलाने के बहाने युवती को होटल में ले गया कारोबारी, कमरे में बंद कर पूरी की हवस

» ताजगंज के पाक टोला बवाल में पुलिस की बड़ी कार्रवाई, 300 लोगों पर हुआ मुकदमा