यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

वाराणसी मे चीफ इंजीनियर समेत आठ अभियंताओं पर मुकदमा, जांच के लिए तीन सदस्यीय कमेटी का आगमन


🗒 गुरुवार, अगस्त 29 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

विभागीय भ्रष्टाचार व बिल भुगतान न होने से कर्ज में डूबे ठेकेदार अवधेश श्रीवास्तव की खुदकशी मामले के मामले में गुरुवार को कैंट पुलिस ने लोक निर्माण विभाग के मुख्य अभियंता, अधिशासी अभियंता समेत आठ लोगों पर मुकदमा दर्ज किया है। इन सबके खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने की धारा में केस दर्ज किया गया है। पुलिस को दी तहरीर में ठेकेदार की पत्नी प्रतिभा श्रीवास्तव ने मुख्य अभियंता समेत लोक निर्माण विभाग के अन्य अभियंताओं पर कमीशन के लिए पति को प्रताडि़त करने, जानबूझकर बिल भुगतान न करने सहित अन्य गंभीर आरोप लगाए थे।कैंट थाने के प्रभारी निरीक्षक अश्विनी चतुर्वेदी ने बताया कि प्रतिभा श्रीवास्तव की तहरीर पर मुख्य अभियंता अंबिका सिंह, अधिशासी अभियंता लोक निर्माण (नाम नहीं), जेई मनोज कुमार सिंह, सहायक अभियंता आशुतोष सिंह, एसडी मिश्र व बिजली अभियंता दीपक श्रीवास्तव पर धारा 306 में केस दर्ज किया गया है।शासन स्तर पर प्रमुख सचिव पीडब्ल्यूडी नितिन रमेश गोकर्ण की ओर से गठित तीन सदस्यीय जांच कमेटी के सदस्य व प्रमुख अभियंता राजन मित्तल गुरुवार को बनारस पहुंचे। उन्होंने मुख्य अभियंता समेत 18 अभियंताओं व कर्मचारियों के बयान दर्ज कर बिल-भुगतान से संबंधित फाइलों को कब्जे में लिया। देर शाम प्रमुख सचिव लोनिवि नितिन रमेश गोकर्ण भी पहुंचे। ठेकेदारों ने शाम को लोक निर्माण विभाग परिसर से कैंडल मार्च निकाला जो नदेसर, वरुणापुल, कचहरी होते हुए सर्किट हाउस पहुंचा। ठेकेदारों के एक प्रतिनिधिमंडल ने प्रमुख सचिव लोक निर्माण से मुलाकात कर अधिकारियों पर गंभीर आरोप लगाए।लोक निर्माण में ए ग्रेड में पंजीकृत ठेकेदार अवधेश श्रीवास्तव बुधवार को चीफ इंजीनियर अंबिका सिंह के कमरे में पहुंचे और बिल-भुगतान को लेकर बात करने के बाद अपनी लाइसेंसी रिवाल्वर से खुद को गोली मार ली। अवधेश का पांच करोड़ से अधिक के बिल का भुगतान कमीशनखोरी के चलते विभाग नहीं कर रहा था। शासन ने ठेकेदार आत्महत्या मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच कमेटी गठित की है। वहीं डीएम ने भी मजिस्ट्रियल जांच शुरू करा दी है।

वाराणसी मे चीफ इंजीनियर समेत आठ अभियंताओं पर मुकदमा, जांच के लिए तीन सदस्यीय कमेटी का आगमन

वाराणसी से अन्य समाचार व लेख

» आइआइटी बीएचयू स्थित न्यू गर्ल्‍स हास्टल की छात्राओं ने मेस के खाने को लेकर बवाल काटा

» प्रधान डाकघर वाराणसी कैंट में एक करोड़ का गबन, दो डाक सहायकों को किया सस्पेंड

» कमिश्नर ने उद्यमियों के साथ किया बैठक, बोले आधारभूत सुविधाएं मुहैया कराई जाए

» वाराणसी के कैंट थाना क्षेत्र मे चीफ इंजीनियर के चैंबर में ठेकेदार ने खुद को मारकर की आत्‍महत्‍या

» वाराणसी के कैंट थाना क्षेत्र मे लिफ्ट में फंसकर बालक की मौत, डॉक्टर शव लेकर भागा

 

नवीन समाचार व लेख

» मंत्री ने बसपा प्रमुख मायावती को बताया बिजली का नंगा तार, बोले- छूने वाला मर जाएगा

» IPS किशोर कुणाल ने अपनी पुस्तक अयोध्या रिविजिटेड और अयोध्या बियांड एड्यूस्ड एविडेंस में किया दावा

» ब्रज यातायात एवं पर्यावरण जनजागरूकता समिति ने हरी बाबू सम्राट को महानगर की कमान सौंपी गई

» चौमुहां में गाड़ी डिवाइडर से टकराकर खड़े ट्रक में जा घुसी

» व्रन्दावन में पति ने तलाक तलाक तलाक कहके पत्नी को दिया तीन तलाक