यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

नगर निगम वाराणसी कार्यकारिणी की बैठक एक दिन टली


🗒 शुक्रवार, नवंबर 08 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

नगर निगम के कार्यकारिणी सदस्यों के चुनाव को लेकर होने वाली बैठक विरहा सम्राट हीरालाल यादव और पार्षद रियाजुद्दीन अंसारी के निधन पर शोक प्रस्ताव के बाद शनिवार तक के लिए स्थगित हो गई। वहीं आज के लिए चुनाव की तिथि निर्धारित की गई है। हालांकि कांग्रेस देव दीपावली के बाद चुनाव कराना चाहती थी जिसे महापौर मृदुला जायसवाल ने खारिज कर दिया।टाउनहॉल में सुबह 11 बजे सदन की बैठक शुरू होते ही कांग्रेस पार्षद दल के नेता सीताराम केसरी ने निर्दल पार्षद मौलवी रियाजुद्दीन के निधन पर शोक प्रस्ताव रखा। इसका समर्थन भाजपा के राजेश यादव ने किया लेकिन यह भी कहा कि इससे पहले की बैठक में यह प्रस्ताव क्यों नहीं लाया गया क्योंकि चुनाव की बैठक में शोक प्रस्ताव नहीं लाया जा सकता है। इस पर अपर नगर आयुक्त अजय कुमार सिंह ने स्पष्ट किया कि यह महापौर के विशेषाधिकार में आता है कि वह किस प्रस्ताव को सदन में अनुमति देंगी और किसे नहीं। इसके बाद सदन की भावना को देखते हुए महापौर ने शोक प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। इसके बाद केशरी ने मौलवी रियाजुद्दीन के साथ पूर्व पार्षद और उपसभापति रहे सुरेश राय के निधन पर शोक प्रस्ताव सदन में रखा। इसका समर्थन उपसभापति नरंिसंह दास और मुमताज अंसारी सहित कई पार्षदों ने किया। भजपा के श्यामाश्रय मौर्या ने विरहा सम्राट हीरालाल यादव, पूर्व पार्षद सुरेश राय और रतन कुमार जैसल के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए प्रस्ताव रखा जिसका पार्षदों से समर्थन किया। बैठक में रवींद्र सिंह, अजीत सिंह, प्रशांत सिंह पिंकू और कमल पटेल सहित अन्य पार्षद उपस्थित थे।

नगर निगम वाराणसी कार्यकारिणी की बैठक एक दिन टली

वाराणसी से अन्य समाचार व लेख

» महाशिवरात्रि पर पंचकोशी यात्रियों शिवभक्तों की डगर होगी मुश्किलों भरी

» पत्रकारों को देते है कोतवाली इस्पेक्टर पत्रकारिता अंदर डालने की धमकी

» वाराणसी -पत्रकारों को देते है कोतवाली इस्पेक्टर पत्रकारिता अंदर डालने की धमकी

» सरकार ने कहा कि उत्तर प्रदेश को 1 ट्रिलियन डॉलर की इकोनामी बनाया

» भारतीय संस्कृति की रक्षा शास्त्रार्थ के माध्यम से ही सम्भव है-कुलपति प्रो0 राजाराम शुक्ल

 

नवीन समाचार व लेख

» बांदा -7 साल बाद फरार हत्यारे को पुलिस ने सलाखों के पीछे भेजा

» बांदा - आग का गोला फुल से कूदी खाई में जनहानि नहीं

» बांदा -गौ सेवा करने वाला मनुष्य मुझको प्राप्त करता है श्रीमद् भागवत कथा

» बांदा -मेडिकल कॉलेज से आयुष्मान कार्ड होने के बाद भी बिना इलाज वापस किया

» महोबा- इलाज के लिए आए मरीजों से अभद्रता पर किसान यूनियन में आक्रोश