यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

यह खबर आपके बहुत काम आ सकती है


🗒 गुरुवार, अप्रैल 22 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
यह खबर आपके बहुत काम आ सकती है

ब्यूरो चीफ संदीप विश्वकर्मा वाराणसी

कोरोना के बढ़ते आकंड़ों को देखकर अगर आपको भी डर सताने लगा है तो एक्सरसाइज करना शुरू कर दीजिए। ऐसा हम नहीं कह रहे, बल्कि अमेरिका के कैलिफोर्निया में 48 हजार कोरोना मरीजों पर हुई एक स्टडी कह रही है। दावा किया गया है कि जो फिजिकली एक्टिव हैं, यानी नियमित कसरत करते हैं उन्हें कोरोना इतना नुकसान नहीं पहुंचाता, जितना निष्क्रिय या आलसी लोगों को। जो लोग नियमित एक्सरसाइज करते हैं, उन्हें कोरोना के गंभीर लक्षण होने और जान जाने का खतरा सबसे कम है। कैलिफोर्निया में कोरोना मरीजों के बीच यह स्टडी की गई। इसमें लोगों को तीन हिस्सों में बांटा गया- 1. ऐसे लोग जो सप्ताह में 10 मिनट से कम शारीरिक गतिविधि में सक्रिय रहते हैं, 2. ऐसे लोग जो हफ्ते में 10 मिनट से 149 मिनट तक सक्रिय रहते हैं और 3. ऐसे लोग जो 150 मिनट से ज्यादा कसरत करते हैं।
जनवरी से अक्टूबर तक 48 हजार से ज्यादा कोविड-19 मरीजों की निगरानी की गई। इसमें जो नतीजे सामने आए, वह बताते हैं कि जो लोग हर हफ्ते 2.5 घंटे सक्रिय रहते हैं, उनके मुकाबले कम सक्रिय लोगों के हॉस्पिटलाइज होने की संभावना दोगुना से अधिक है। कम सक्रियता वाले लोगों की मौतें भी सक्रिय लोगों की तुलना में 2.5 गुना अधिक रही।
यह स्टडी बताती है कि जिन लोगों को दिल के रोग, डाइबिटीज, किडनी के रोग और हाई ब्लड प्रेशर की समस्या थी, उसके मुकाबले कम सक्रियता उनके लिए ज्यादा घातक साबित हुई। जिन लोगों का पहले ऑर्गन ट्रांसप्लांट हुआ है या इन्फेक्शन के समय प्रेग्नेंट थे, उन्हें अस्पताल में भर्ती करने का कारण एहतियात था। स्टडी में अमेरिका के 48 हजार 440 लोग शामिल हुए। इनमें से 14.4% पिछले 2 सालों से किसी शारीरिक गतिविधि में शामिल नहीं हुए थे। 79.1% ने हल्की-फुल्की एक्सरसाइज की और 6.4% हर सप्ताह कम से कम 150 मिनट एक्सरसाइज करते थे।
एक्सरसाइज क्यों है कोरोना से बचाने में कारगर....
प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है- कई रिसर्च से पता चला है कि कसरत करने से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। शरीर की यही प्रतिरोधक क्षमता कोरोना से लड़ने में मददगार रही।
फेफड़ों में मजबूती- एक्सरसाइज करने वालों के शरीर में ऑक्सीजन की खपत अधिक होती है। इस कमी को पूरा करने के लिए शरीर जल्दी-जल्दी सांस लेता है और फेफड़ों की कसरत होती है। वह मजबूत होता है। कोरोना से सबसे ज्यादा मौतें फेफड़ों में संक्रमण से हो रही है। ऐसे में फेफड़ों का ध्यान रखना सबसे ज्यादा जरूरी है।

वाराणसी से अन्य समाचार व लेख

» वाराणसी में रंगरेलियां मनाते मिले तीन दोस्‍त

» CM योगी ने बीएचयू में अस्थायी कोविड हास्पिटल का किया निरीक्षण

» वारणसी में 20 हजार रुपये में रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचने की थी तैयारी, हत्थे चढ़े छात्र समेत दो

» बीएचयू अस्‍पताल में ट्रामा सेंटर के प्रोफेसर इंचार्ज डा. संजीव गुप्ता ने दिया इस्तीफा

» वाराणसी के लंका थाने इंस्पेक्टर को ही मेडिकल स्टोर वाले ने लगाया चूना

 

नवीन समाचार व लेख

» गांवों में बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर सरकार का एक्शन प्लान तैयार, गठित टीमों ने शुरू किया काम

» लखीमपुर में मामा की हरकत से आग बबूला भांजे ने ताबड़तोड़ वारकर मार डाला

» पीएम मोदी बोले, भारत हिम्मत हारने वाला देश नहीं, हम लड़ेंगे और जीतेंगे

» इटावा में फिल्मी तरीके से बदमाशों ने लूटा पानी की टंकी व पाइप से भरा कैंटर

» चित्रकूट जेल गैंगवार में मुख्तार अंसारी के करीबी समेत दो की हत्या, पुलिस एनकाउंटर में गैंगस्टर भी ढेर