यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

वाराणसी के करौली डायोग्नेस्टिक सेंटर को परिवहन विभाग थमाएगा नोटिस


🗒 रविवार, मई 02 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
वाराणसी के करौली डायोग्नेस्टिक सेंटर को परिवहन विभाग थमाएगा नोटिस

वाराणसी। वैश्विक महामारी में गिलट बाजार स्थित करौली डायोग्नेस्टिक सेंटर में प्राइवेट वैन को एंबुलेंस बनाकर मरीजों को ढोने पर परिवहन विभाग नोटिस जारी करेगा। रविवार को अवकाश होने के कारण ानोटिस नहीं भेजी जा सकी। मनमाने तरीके से कैसे प्राइवेट वैन को एंबुलेंस बना दिया। एक सप्ताह में जवाब नहीं देने पर परिवहन विभाग वैन का पंजीयन निरस्त करने के साथ धोखोधड़ी का मुकदमा दर्ज कराएगा। प्रावइेट वैन को एंबुलेंस बनाने का मतलब किसी के जीवन के साथ खिलवाड़ करना है। साथ ही जिलाधिकारी को पत्र लिखकर इस कृत से अवगत कराएगा।कोरोना संक्रमण तेजी से फैलने के साथ हर व्यक्ति डरा है। लोग अपने घरों से बाहर नहीं निकल रहे हैं। सर्दी-जुखाम और थोड़ी सी खांसी आने पर लोग घबरा जा रहे हैं। चिकित्सक को दिखाने के साथ उपचार कराने लग रहे हैं। ज्यादातर चिकित्सक डायोग्नेस्टिक सेंटर में जांच कराने की सलाह दे रहे है। इसका फायदा उठाते हुए डायोग्नेस्टिक सेंटर वालों ने लूट मचा रखी है। जांच के नाम पर मनमाना पैसा मांग रहे हैं। कई लोग पैसे के अभाव में जांच तक नहीं करा पा रहे हैं। अपने यहां अधिक से अधिक मरीजों को लाने के लिए डायोग्नेस्टिक सेंटर संचालकों ने अपने खुद के एंबुलेंस रखें। वैश्विक महामारी में कमाई के लिए कुछ लोगों ने प्राइवेट वैन को एंबुलेंस तक बना दिया।विभिन्न प्रकार की बीमारियों से परेशान लोग डायोग्नेस्टिक सेंटर पर जांच कराने जाते हैं। इससे लोगों को फायदा भी मिलता है लेकिन बनारस में डायोग्नेस्टिक सेंटरों में जांच का कोई रेट फिक्स नहीं है। सबका अलग-अलग अपना रेट है। और न ही उनसे कोई पूछने वाला है कि जांच का इतना पैसा क्याें। सवाल उठता है कि चिकित्सा विभाग का काम क्या है। सिर्फ लोगों को दवा पहुंचाना। उपचार के नाम पर मनमान पैसा लेने वालों के खिलाफ कार्रवाई कौन करेगा।कैला देवी हेल्थ केयर सेंटर के नाम से प्राइवेट वैन परिवहन कार्यालय में पंजीकृत है। यदि एंबुलेंस होता है तो एंबुलेंस के नाम से पंजीयन किया जाता है। प्राइवेट वैन पर एंबुलेंस लिखा है और मरीज ढोएं जा रहे हैं जो गलत है। करौली डाग्योग्नोस्टिक सेंटर को नोटिस जारी कर एक सप्ताह में जवाब मांगा जाएगा। जवाब नहीं देने पर उनके पंजीयन निरस्त करने के साथ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। प्राइवेेट वाहन को एंबुलेंस बनाना जीवन के साथ खिलवाड़ है। सर्वेश चतुर्वेदी, एआरटीओ (प्रशासन)

वाराणसी से अन्य समाचार व लेख

» वाराणसी में नकली एसटीएफ अधिकारी बताकर वसूली मामले में इनामी गिरफ्तार

» वाराणसी में मनमाफिक गाने के विवाद में बरातियों पर ट्रैक्टर चढ़ाने का प्रयास

» जौनपुर से जुड़े हैं पीएनबी के प्रबंधक की हत्या के तार, 47 लाख रुपये की लूट मामले में नए तथ्य सामने

» वाराणसी में पीएनबी मैनेजर की हत्या और लूट की जांच में पुलिस दे रही दबिश

» वाराणसी में चोरी की दो बाइक संग तीन गिरफ्तार

 

नवीन समाचार व लेख

» शौक पूरे करने के लिए लुटेरे बन गए राजस्थान के छात्र

» कानपुर सेंट्रल स्टेशन पर काम करते पर पकड़े गए 16 फर्जी कर्मचारी

» मेरठ मे चुनावी रंजिश में युवक की हत्या के दो आरोपित गिरफ्तार

» प्रतापगढ़ में सो रहे थे रिटायर डिप्टी एसपी को मार दी गोली

» धोखे से किया युवती का सौदा, शातिर ने ऐंठे सात लाख रुपये, दो आरोपित दबोचे गए