वाराणसी के नवाबगंज प्रबंधकीय विवाद में चली गोली

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

वाराणसी के नवाबगंज प्रबंधकीय विवाद में चली गोली


🗒 रविवार, जुलाई 18 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
वाराणसी के नवाबगंज प्रबंधकीय विवाद में चली गोली

वाराणसी,। भेलूपुर थाना क्षेत्र में खोजवां - नवाबगंज रोड पर स्थित संतोषी माता मंदिर के प्रबंध तंत्रीय विवाद को लेकर पुजारी और मंदिर के प्रबंधक के बीच मारपीट हो गयी। मारपीट में जहां पुजारी पक्ष के एक तो दूसरे पक्ष के प्रबंधक समेत उनके भाई घायल हो गए। प्रबन्धक के पिस्टल से चली गोली पुजारी पक्ष के अभिषेक पांडेय को लग गयी। पुलिस ने मामले की जांच करने के साथ ही प्रबन्धक के घर से उनकी राइफल और पिस्टल को जब्त कर लिया है। घायलों को ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है। इधर पुलिस मंदिर के बगल में बने कमरे में रहने वाली दो महिलाओं और एक युवक को पूछताछ के लिए थाने ले गयी।बताया जाता है कि नबावगंज - खोजवा मार्ग पर स्थित उक्त पुराने और जर्जर हो चुके मंदिर के पुजारी रवि पाठक और प्रबन्धक अंतर सिंह के बीच मंदिर के स्वामित्व को लेकर विवाद बहुत दिनों से चल रहा था। अंतर सिंह के बेटे ने आरोप लगाया कि रविवार की शाम को मंदिर में बने कमरे में रहने वाली एक लड़की से पुजारी रवि ने पानी मांगा। जब लड़की मंदिर में पानी देने गयी तो पुजारी ने उसके साथ आपत्तिजनक हरकत किया। लड़की भाग कर इसकी शिकायत लेकर वहीं 100 मीटर दूर अंतर सिंह के भाई राजबहादुर सिंह के पास गई। इसकी पूछताछ करने जब दोनों लोग गए तब इसी बात को लेकर विवाद बढ़ गया। आरोप है कि पुजारी और उसके साथी अभिषेक पांडेय ने लाठी- डंडे से अंतर सिंह और राज बहादुर पर हमला कर दिया।इसी दौरान अंतर सिंह ने अपनी लाइसेंसी पिस्टल से गोली चला दी जो अभिषेक के दाहिने हाथ की बाजू और हथेली पर लगी। सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने गोली से घायल अभिषेक और मारपीट में घायल अंतर सिंह और राज बहादुर को ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया। घटना स्थल पर दो खोखे बरामद हुए हैं। सूचना पाकर काशी क्षेत्र के असिस्टेंट कमिश्नर अमित कुमार, विकास चन्द्र त्रिपाठी और एसीपी चक्रपाणि त्रिपाठी भी पहुंच गए। उन्होंने बताया कि घटना की विस्तृत जांच कराई जा रही है। आसपास के सीसीटीवी फुटेज को खंगाला जा रहा है। उधर ट्रामा सेंटर में भर्ती अंतर सिंह और राज बहादुर सिंह को देखने के लिए लोगों की भीड़ लग गयी। वहां पहुंचने वालों में प्रदेश के राज्यमंत्री रविन्द्र जायसवाल भी शामिल थे।