यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

फर्जीवाड़ा का मुख्य साजिशकर्ता पुलिस के हत्थे चढ़ा


🗒 सोमवार, अगस्त 23 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
फर्जीवाड़ा का मुख्य साजिशकर्ता पुलिस के हत्थे चढ़ा

वाराणसी। केनरा बैंक की शाखाओं में नकली सोना बंधक रखकर गोल्ड लोन के नाम पर 85 लाख रुपये की ठगी करने के मामले में मंडुआडीह पुलिस ने मुख्य साजिशकर्ता रवींद्र प्रकाश सेठ की तलाश में उसके संभावित ठिकानों पर छापेमारी की। सूत्रों के मुताबिक पुलिस ने उसे गिरफ्त में ले लिया है। हालांकि पुलिस गिरफ्तारी से अभी इन्कार कर रही है। उसका दावा है कि जल्द ही फरार आरोपित भी पकड़ लिए जाएंगे। आदमपुर थानांतर्गत कोनिया क्षेत्र निवासी स्वर्णकार रवींद्र सेठ केनरा बैंक द्वारा अनुमोदित सोने का मूल्यांकन कर्ता भी है। उसने ही अपने दोस्तों के साथ बैंक को चपत लगाने की साजिश रची थी। इसके लिए उसने निर्धन लोगों को मोहरा बनाया और उनके नाम पर गोल्ड लोन कराकर फर्जीवाड़ा किया। इस मामले में मंडुआडीह थाने में दो व कैंट थाने में एक मुकदमा दर्ज कराया गया है। आ में कुल 17 लोग आरोपित बनाए गए हैं। पुलिस ने 10 आरोपितों को गिरफ्तार किया है, जबकि एक ने अदालत में समर्पण कर दिया था। पुलिस को अब भी छह आरोपितों की तलाश है। गिरफ्तार आरोपितों में तीन महिलाएं भी शामिल हैं।बैंक फर्जीवाड़ा में गिरफ्तार आरोपितों में अधिकांश निर्धन वर्ग के हैं। उनकी गिरफ्तारी के बाद घरों पर सन्नाटा पसरा हुआ है। उनके परिवारीजन को यह भी पता नहीं था कि वे इतने बड़े फर्जीवाड़े में शामिल थे। मंडुवाडीह क्षेत्र के घुघुलपुर जलालीपट्टी में आरोपित सूरज बिंद के घर सोमवार को सन्नाटा पसरा था। पिता परदेसी बिंद ने बताया की हम लोग पहले शिवपुरवा बिंद बस्ती में रहते थे, लेकिन पांच वर्ष पूर्व वहां का पुश्तैनी मकान बेच कर यहां पर आ गए और इस वक्त वह काम करने में असमर्थ है, जिसके चलते घर की जिम्मेदारी उठाने में सक्षम नही है। वहीं आरोपित की मां तारा देवी ठेले पर फेरी कर के श्रृंगार का सामान बेचती हैं। बड़ा पुत्र शरद बिंद मालवाहक ऑटो चलाता है।घर की स्थिति दिखाते हुए आरोपित की मां फफक कर रो पड़ी और बोली की अगर मेरा लड़का हेराफेरी का कार्य करता तो घर मे खाना बनाने के लिए रसोई घर तक नही है और बरसात में मेरी दोनों बहुएं पन्नी लगाकर खाना बनाती हैं। जब से पति की गिरफ्तारी की सूचना मिली है पत्नी प्रियंका का रोना थम नहीं रहा है। आसपास की महिलाओं ने ढांढस बंधाया लेकिन पत्नी प्रियंका व माता तारा के आंसू रुकने का नाम ही नही ले रहे थे। रोते हुए आरोपित की मां ने बताया कि हम लोगों के लाख पूछने पर भी पुलिस ने यह नही बताया की मेरे लड़के का कसूर क्या है। जब परिवारीजन व पत्नी से इस बाबत पूछा गया की सूरज ने आप लोगों से कभी इस मामले का जिक्र किया था तो उनका यही जवाब रहा की वह तो बजरडीहा में साड़ी कारखाने में कार्य करता था और इधर कुछ दिनों से काम बंद होने से घर पर ही रह रहा था।

वाराणसी से अन्य समाचार व लेख

» बैंक फर्जीवाड़ा में मुख्य साजिशकर्ता समेत दो गिरफ्तार

» दो लाख के इनामी शूटर ने प्रापर्टी डीलर को मारी थी गोली, तीन गिरफ्तार

» आत्‍मदाह का प्रयास करने वाली दुष्‍कर्म पीड़‍िता की भी मौत

» सांसद अतुल राय प्रकरण में आत्‍मदाह मामले की जांच शुरू

» वाराणसी में घंटों तलाश के बाद भी नही मिला गंगा में डूबा युवक