नीलगिरी इंफ्रासिटी प्रकरण में पुलिस ने की चौथी गिरफ्तारी

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

नीलगिरी इंफ्रासिटी प्रकरण में पुलिस ने की चौथी गिरफ्तारी


🗒 रविवार, अक्टूबर 03 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
नीलगिरी इंफ्रासिटी प्रकरण में पुलिस ने की चौथी गिरफ्तारी

वाराणसी। जिला कारागार में बंद नीलगिरी इंफ्रासिटी के मुख्य प्रबंध निदेशक विकास सिंह, उसकी पत्नी प्रबंध निदेशक ऋतु सिंह व मैनेजर प्रदीप यादव के खिलाफ न्यायालय के आदेश पर चेतगंज पुलिस ने रविवार को 47वां मुकदमा दर्ज किया। वहीं प्रकरण में देर शाम चौथी गिरफ्तारी भी की गई। हालांकि आला अधिकारियों ने गिरफ्तारी को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं की।जानकारी के मुताबिक विकास, ऋतु व प्रदीप की गिरफ्तारी के बाद से पुलिस टीम शेष पांच आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए संभावित ठिकानों पर लगातार दबिश दे रही है। अन्य आरोपित भी जल्द ही पुलिस की गिरफ्त में होंगे। वहीं 47वां मुकदमा दर्ज कराने के लिए गिरिधर नगर कालोनी-शिवपुर निवासी संदीप कुमार ने न्यायालय में प्रार्थना पत्र देकर गुहार लगाई थी। न्यायालय के आदेश पर चेतगंज पुलिस ने दोपहर बाद धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया। तहरीर के मुताबिक संदीप के भाई मनीष ने 17 दिसंबर 2015 में नीलगिरी कंपनी को बाबतपुर में प्लॉट बुक करने के नाम पर 4.14 लाख रुपए का चेक दिया था। उनके भाई कंपनी से प्लाट की बात करते रहते थे। पहले तो उन्हें खूब टरकाया गया। वहीं बाद में गाली-गलौच और जान से मारने की धमकी दी जाने लगी। लगातार दबाव बनाने पर सीएमडी, एमडी और मैनेजर ने उनके भाई से तीन फरवरी 2020 को प्लाट कैंसिल करने के लिए फार्म भरवाया। साथ ही 40 हजार रुपए का चेक भी दिया, जो बाऊंस हो गया। इसके बाद पीड़ित ने पुलिस को शिकायत की। जब मामला दर्ज नहीं किया गया तो उन्होंने न्यायालय की शरण ली।नीलगिरी कंपनी के सभी पीड़ितों का मुकदमा दर्ज कराया जा रहा है। विशेष जांच दल को तेजी से जांच करने के निर्देश दिए गए हैं। मामले के शेष बचे आराेपित भी जल्द पुलिस की गिरफ्त में होंगे। ए. सतीश गणेश, पुलिस कमिश्नर।